कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद राजस्थान में सख्ती के लिए इस्तेमाल हो रहा ये तरीका

News

(केजे श्रीवत्सन)  जयपुर: राजस्थान में कोरोना के बढ़ते मामलों ने अब लोगों को डराना शुरू कर दिया है. संक्रमण के बढ़ते मामलों को लेकर सरकार खुद कितनी परेशान है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है की जगह-जगह नाकेबंदी कर अब मास्क नहीं पहनने वाले लोगों के चालान काटे जा रहे हैं. वैसे हर रोज राजस्थान में 2800 से भी अधिक कोरोना संक्रमित मिल रहे हैं. और पिछले दो दिनों से हर रोज 12 से 13 लोगों की संक्रमण की मौत के चलते अब स्थिति भयावाह हो रही है. 

जयपुर पुलिस की हर जगह चल रही ये नाकाबंदी किसी अपराधी को पकड़ने के लिए नहीं है बल्कि बिना मास्क लगाए लोगों को पकड़कर चालान काटने और समझाने के लिए है.  पुलिस ये बताना चाहती है कि जरा सी लापरवाही बाकी लोगों की जिंदगी पर किस तरह भारी पड़ रही है. 

इसी तरह का अभियान समूचे राज्य में चलाया जा रहा है जहां मास्क नहीं पहनने वालों के साथ बिना मास्क के खरीददारों को सामान देने वालों पर सख्ती की जा रही है. इस दौरान कई लोग पुलिस वालों से बहस में उलझते नजर आ रहे हैं. वहीं कई लोगों के पास अपने बहाने भी है, लेकिन पुलिस वाले भी लोगों की सुरक्षा की बात कहकर उन्हें शांति से इसकी जरूरत समझाने की कोशिश कर रहे हैं.

राजस्थान में 16 हजार के पार पहुंचे एक्टिव मरीज: 

राजस्थान में अब एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़कर 16 हजार के भी पार चली गयी है और यदि आंकड़ों पर नजर डालें  तो हर 2 मिनट में तीन लोग कोरोना से संक्रमित हो रहे हैं. यानी की जहां एक महीने पहले तक जयपुर में हर रोज 30 से 35 मामले ही मिल रहे थे वहीं अब इनकी संख्या 400 से भी अधिक हो गयी है. 

ऐसे में जब राज्य के 33 में से 32 जिले कोरोना संक्रमण के चपेट में आ गए तब राज्य सरकार ने भी नाईट कर्फ्यू लागाने के ऐलान कर दिया है. जिम, स्वीमिंग पूल और सिनेमाघरों को बंद कर दिया गया है और निजी अस्पतालों को भी 25 फीसदी बीएड कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए रिजर्व रखने को कहा है. 



न्यूज़24 हिन्दी