केंद्र सरकार ने जारी की डराने वाली रिपोर्ट, भारत के 18 राज्यों में मिला कोरोना का नया स्‍ट्रेन

News

नई दिल्‍ली: केंद्र सरकार ने कहा कि भारत में SARS-CoV-2 या कोरोना वायरस का एक नया दोहरा बदला हुआ स्‍ट्रेन पाया गया है. एक प्रेस नोट जारी करते हुए केंद्र ने कहा कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा साझा किए गए कुल 10,787 पॉजिटिव नमूनों में देश में अब तक कुल 771 COVID-19 वेरिएंट्स (VOCs) का पता चला है.

प्रेस रिलीज में कहा गया है कि इनमें यूके (बी.1.1.7) के वायरस के 736 पॉजिटिव नमूने शामिल हैं. दक्षिण अफ्रीकी (B.1.351) के वायरस के लिए 34 नमूने, ब्राजील (P.1) के वायरस का 1 नमूना पॉजिटिव है. इन COVID-19 वेरिएंट्स (VOCs) के नमूनों की पहचान देश के 18 राज्यों में की गई है.

सरकार ने कहा कि विभिन्न वायरस के जीनोमिक वेरिएंट एक प्राकृतिक घटना है और दुनिया भर के लगभग सभी देशों में पाए जाते हैं. जिन नमूनों का प्रयोग जीनोम अनुक्रमण और विश्लेषण के लिए किया गया था, वे अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों से लिए गए थे, जो देश भर के COVID-19 वेरिएंट्स पॉजिटिव पाए गए थे.

महाराष्ट्र से नमूनों के विश्लेषण से पता चला है कि दिसंबर 2020 की तुलना में E484Q और L452R म्यूटेशन के साथ नमूनों के अंश में वृद्धि हुई है. इस तरह के उत्परिवर्तन प्रतिरक्षा से बचने और संक्रामकता में वृद्धि करते हैं. ये म्यूटेशन लगभग 15-20 प्रतिशत नमूनों में पाए गए हैं और यह पहले के सूचीबद्ध वेरिएंट्स से मेल नहीं खाते हैं.

केरल से, 2,032 नमूनों (सभी 14 जिलों से) की जांच की गई. N440K वैरिएंट 11 जिलों के 123 नमूनों में पाया गया है. यह संस्करण पहले आंध्र प्रदेश के 33 प्रतिशत नमूनों में पाया गया था और तेलंगाना के 104 नमूनों में से 53 नमूनों में पाया गया. इस संस्करण को यूके, डेनमार्क, सिंगापुर, जापान और ऑस्ट्रेलिया सहित 16 अन्य देशों से भी पाया गया गया है.

सरकार ने कहा कि देश में नए दोहरे बदले हुए स्‍ट्रेन का पता चला है, जो अब तक कई राज्यों में COVID-19 मामलों में उछाल के साथ एक कड़ी स्थापित करने के लिए पर्याप्त संख्या में नहीं पाए गए हैं.

सरकार ने कहा, “जीनोमिक अनुक्रमण और महामारी विज्ञान के अध्ययन से स्थिति का विश्लेषण जारी है.”



न्यूज़24 हिन्दी