Close

राकेश टिकैत का आरोप, हिंसा के पीछे बीजेपी की साजिश

News

नई दिल्‍ली: किसान मार्च के दौरान दिल्‍ली में हुई हिंसा को लेकर किसान नेता राकेश टिकैत ने कल के बवाल के लिए बीजेपी को जिम्मेदार ठहरा दिया. टिकैत ने कहा कि हिंसा के पीछे बीजेपी की साजिश थी और झंडा फहराने वाले लोग बीजेपी से संबंधित हैं. इसके साथ ही उन्‍होंने कहा कि पुलिस की लापरवाही से हिंसा हुई है.

न्‍यूज 24 से बात करते हुए टिकैत ने कहा, ‘यह सरकार का काम है. दिल्‍ली में किसानों को घुसाकर और उनको लाल किले तक रास्‍ता दिया गया. इसके साथ ही बीजेपी कार्यकर्ताओं को वहां पर भेजा गया और फुटेज को दुनिया में किसानों को बदनाम करने के लिए प्रसारित किया गया.’ उन्‍होंने कहा कि दिल्‍ली पुलिस ने मार्च वाले रास्‍तों को बंद किया और लाल किले जाने वाले रास्‍तों को खोला गया.

राकेश टिकैत ने कहा, ‘जिन लोगों ने हिंसा को अपनाया, वह अलग विचारधारा वाले लोग थे. पुलिस के लोग भी किसान की विचारधारा से हैं. जिन लोगों ने भी लाल किले में पुलिसवालों के खिलाफ बर्बरता को अपनाया और लाल किले पर झंड़ा लहराया, उनके ऊपर कार्रवाई की जानी चाहिए, किसान संगठन इस बारे में सरकार से भी मांग करता है.’

‘दीप सिद्धू सिख नहीं, बीजेपी कार्यकर्ता है’

राकेश टिकैत ने कहा, ‘दीप सिद्धू सिख नहीं हैं, वे बीजेपी के कार्यकर्ता हैं. पीएम के साथ उनकी एक तस्वीर है. यह किसानों का आंदोलन है और ऐसा ही रहेगा. कुछ लोगों को तुरंत इस जगह को छोड़ना होगा, जो लोग बैरिकेडिंग तोड़ रहे हैं वे कभी भी आंदोलन का हिस्सा नहीं होंगे.’

इसके साथ ही उन्‍होंने अपने लाठी साथ रखने वाले वीडियो के बारे में कहा क‍ि हमने कहा अपनी लाठी ले आओ. कृपया मुझे छड़ी के बिना झंडा दिखाएं, मैं अपनी गलती स्वीकार करूंगा.

300 से अधिक पुलिसकर्मी घायल

दिल्ली पुलिस पर आंदोलनकारी किसानों द्वारा हमला किए जाने के बाद 300 से अधिक पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. दिल्ली पुलिस ने कहा कि अतिरिक्त डीसीपी सेंट्रल के ऑपरेटर पर कल आईटीओ में तलवार से हमला किया गया.

दिल्ली पुलिस के सूत्रों के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में विभिन्न स्थानों पर किसानों की ट्रैक्टर हिंसा के दौरान कल रात से ही प्राथमिकी दर्ज करने की प्रक्रिया शुरू हो गई थी और 300 से अधिक दिल्ली पुलिस कर्मी घायल हो गए थे.



न्यूज़24 हिन्दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top