राहुल गांधी ने साधा पीएम मोदी पर निशाना, वैक्‍सीन की कमी गंभीर मुद्दा, उत्‍सव नहीं

News

नई दिल्‍ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11 से 14 अप्रैल के बीच राज्यों में लोगों की अधिकतम संख्या को टीका लगाने को लेकर टीका उत्सव का आह्वान किया है, जिसको लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने निशाना साधा है. राहुल ने कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ टीके की खुराक की कमी एक गंभीर मुद्दा है, यह कोई उत्‍सव नहीं है.

कांग्रेस सांसद ने ऐसे समय में टीकों के निर्यात पर सरकार से सवाल किया, जब महाराष्ट्र सहित कई राज्यों में टीके केंद्रों को बंद कर दिया गया है. कई टीकाकरण केंद्रों ने बताया कि उनके पास कोरोना वैक्‍सीन की कम ही खुराक बची है, जबकि देश में संक्रमण सबसे तेज़ दर से बढ़ा रहा है.

राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए कहा, ”बढ़ते कोरोना संकट में वैक्सीन की कमी एक अतिगंभीर समस्या है, ‘उत्सव’ नहीं. अपने देशवासियों को ख़तरे में डालकर वैक्सीन एक्सपोर्ट क्या सही है? केंद्र सरकार सभी राज्यों को बिना पक्षपात के मदद करे. हम सबको मिलकर इस महामारी को हराना होगा.”

गुरुवार को मुख्यमंत्रियों के साथ अपनी बैठक के दौरान पीएम मोदी ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और महाराष्ट्र सरकार के बीच टीकाकरण को लेकर जारी एक पंक्ति का उल्लेख करते हुए एक स्पष्ट संदेश दिया कि वह इस महामारी से लड़ने के दौरान किसी भी प्रकार के राजनीतिक आरोप का समर्थन नहीं करते हैं.

उन्‍होंने कहा, “राज्यों के बीच एक तरह की प्रतिस्पर्धा थी, जब कोरोना वायरस के मामलों की संख्या बढ़ने लगी. यह राज्य पूरी तरह से बेकार है, इसकी संख्या इतनी अधिक है. यह राज्य इतना अच्छा कर रहा है. विभिन्न राज्यों की तुलना करना एक फैशन बन गया है.”

इसे भी पढ़ें: राहुल गांधी ने साधा पीएम मोदी पर निशाना, वैक्‍सीन की कमी गंभीर मुद्दा, उत्‍सव नहीं

विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि भारत ने एंटी-कोरोना वायरस वैक्सीन पर कोई निर्यात प्रतिबंध नहीं लगाया है. हालांकि उन्‍होंने कहा कि भारत में बने टीका का विदेशों में निर्यात जारी रहेगा, लेकिन पहले देश की घरेलू जरूरतों का ख्याल भी देखा जाएगा.

पांच दिनों में चौथी बार, भारत ने एक लाख से अधिक कोविड मामलों की सूचना दी, कुल मामले की संख्या 1.3 करोड़ से अधिक हो गई.



न्यूज़24 हिन्दी