Close

पुतिन ने लिया दुश्मनों को मारने के लिए जहरीली साजिश का सहारा

News

नई दिल्‍ली: रूस में कुछ दिनों पहले पुतिन के बड़े विरोधी को जहर से मारने कोशिश की गई. एलेक्स नवेलनी नाम के शख्स की जान तो बच गई, लेकिन एलेक्स ने पुतिन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. रूस में पुतिन विरोधियों के खिलाफ खुफिया एजेंसियों की साजिश पर एक बड़ा खुलासा हुआ है. खुलासे में कई ऐसे नाम सामने आए हैं, जिनके खिलाफ जहरीली साजिश को अंजाम दिया गया और इन साजिशों को पुतिन के इशारे पर खुफिया एजेंसियों ने ही अंजाम दिया.

रूस में अपने विरोधियों को खामोश कर देने की रवायत पुरानी है और ये फॉर्मूला आज भी रूस का फेवरेट है. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के आलोचक और विपक्षी नेता एलेक्स नवेलनी को भी जहर दिया गया, लेकिन पुतिन के लिए बुरी खबर ये हो गई की एलेक्सी बच गए. अब वो पुतिन की जहर फैक्ट्री के तारों को तार-तार करने में जुटे हैं.

जहरीली साजिश के कितने शिकार

एलेक्स नवेलनी ने पहले एफसीबी ऑफिसर का स्टिंग ऑपरेशन कर पुतिन की साजिशों को दुनिया के सामने लाने की कोशिश की थी. अब नवेलनी ने रशिया में पिछले एक दशक में हुई कई मौतों के लिए भी पुतिन और एफएसबी पर हल्ला बोल दिया है. जानकारी के मुताबिक, रूसी सुरक्षा सेवा के कम से कम छह ऐसे सदस्यों की पहचान की गई है, जिन्हें रूस की खुफिया एजेंसी ने जहरीली साजिश का शिकार बनाया.

1. व्लादिमीर कारा-मुर्जा को 2017 में जहर देकर मारा गया. व्लादिमीर कारा-मुर्जा विपक्षी ऐक्टिविस्ट थे और पुतिन नीतियों के खिलाफ बोलते थे.

2. रूसी विपक्षी पार्टी के कार्यकर्ता रुस्लान मैगोमेड्रेगिमोव की 2015 में रहस्यमयी परिस्थियों में मौत हुई थी.

3. 2019 में विपक्षी कार्यकर्ता निकिता इसायेव की टैम्बोव से मास्को तक जाते हुए ट्रेन में मौत हो गई थी.

4. रूस के एक प्रोटेस्ट ग्रुप के सदस्य प्योत्र को 2018 में जहर देने की घटना सामने आई थी. प्योत्र को जर्मनी ले जाया गया, जहां उनकी जान बच गई थी.

5. खोजी पत्रकार ऐना ने 2004 में चाय में जहर देकर मारने की आशंका जाहिर की थी. ऐना रूस और मॉस्को समर्थक चेचन फोर्सेज के चेचन्या में अत्याचार को लेकर आलोचना की थी. बाद में 2006 में ऐना को उनके घर के बाहर गोली मार दी गई.

ऐसे कई नाम हैं जो एलेक्सी नवेलनी को जहर दिए जाने के खुलासे के बाद सामने आ रहे हैं.

नंबर वन विरोधी के पीछे पड़े पुतिन

मॉस्को के ऊपर ऐसे आरोप कई बार लग चुके हैं कि अपने आलोचकों को खतरनाक जहर देकर वह चुप करा देता है और इस बार पुतिन के धुर विरोधी एलेक्सी नवेलनी पुतिन की खुफिया एजेंसी के निशाने पर हैं.

कौन है एलेक्स नवल्नी

एलेक्स नवल्नी रूस में पुतिन का राजनीतिक विरोधी है

पुतिन की पॉलिसीज के सबसे बड़े क्रिटिक हैं

एलेक्स ने 2018 में राष्ट्रपति चुनाव भी लड़ा है

2015 से पुतिन के खिलाफ कैंपेन कर रहे हैं

एलेक्स लंबे वक्त से पुतिन के टारगेट नंबर 1 हैं. एलेक्स को पुतिन कितनी शिद्दत से अपने रास्ते से हटाना चाहते थे, उसका अंदाजा इसी से लग जाता है कि साल 2017 से ही रूसी खुफिया एजेंसी FSB उनके पीछे लगी है और बीते करीब 2 महीने में 37 बार उन्हें फॉलो किया गया है.

संदिग्ध FSB एजेंट्स की फोन लोकेशन में सामने आया है कि एलेक्स जहां भी जाते थे, FSB एजेंट उनके आसपास होते थे. कई बार एलेक्स की फ्लाइट के बाद वाली फ्लाइट से जाते थे. एलेक्स के पहुंचने से पहले होटल पहुंच जाते थे. एजेंट दो या तीन के ग्रुप में एलेक्स का पीछा करते थे.

इससे साफ है कि FSB लंबे वक्त से इस हमले की प्लानिंग कर रही थी. 20 अगस्त को हुए हमले के सीसीटीवी फुटेज में भी एक संदिग्ध शख्स एलेक्स के आसपास दिखाई दे रहा है. एयरपोर्ट पर खड़ा यह शख्स होकर कुछ देख रहा है और जैसे ही एलेक्स नवल्नी उसके करीब से गुजरे वो उनके पीछे लग गया.

रूसी खूफिया एजेंट्स एलेक्स को जहर देने में तो कामयाब रहे, लेकिन उनकी किस्मत अच्छी थी कि वो बच गए. अब एलेक्स अपनी दूसरी जिंदगी को पुतिन के लिए जहर बनाने की तैयारी में जुटे हैं.



न्यूज़24 हिन्दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top