विश्व जल दिवस पर पीएम मोदी आज करेंगे जल शक्ति अभियान की शुरुआत, जानें इसकी खासियत

News

अमित कुमार, नई दिल्ली: आज विश्व जल दिवस है. इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी एक खास जल शक्ति अभियान की शुरुआत करने जा रहे हैं. इस अभियान को ‘कैच द रेन’  का नाम दिया गया है. इस अभियान का थीम वेयर इट फॉल्स, वैन इट फॉल्स होगा. ये अभियान 22 मार्च से 30 नवंबर तक चलेगा. मानसून से पहले और मानसून के दौरान यह अभियान चलाया जाएगा. इसमें लोगों की भागीदारी के जरिये जमीनी स्तर पर जल संरक्षण लिए आंदोलन के रूप में इसे शुरू किया जाएगा. 

इस अभियान के जरिए शहरी और ग्रामीण इलाकों को लोगों को पानी संरक्षण के बारे में जागरुक किया जाएगा और ये भी बताया जाएगा की किस तरह से जल बचाकर वो अपने भविष्य को बेहतर बना सकते हैं. साथ ही इस अभियान का मसकद आम लोगों की भागीदारी जल संरक्षण को एक जन आंदोलन का रुप देना है. इस अभियान की थीम ‘कैच द रेन वेयर इट फॉल्स, वैन इट फॉल्स’ रखी गई है. इस कार्यक्रम का उद्देश्य लोगों में वर्षा जल के संरक्षण के प्रति जागरूकता बढ़ाना है.

प्रधानमंत्री मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस जल शक्ति अभियान को दोपहर 12.30 बजे लॉन्च करेंगे. इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी की मौजूदगी में केंद्रीय जल मंत्रालय, उत्तर प्रदेश सरकार और मध्य प्रदेश की सरकार केन बेतवा की नदियों को जोड़ने वाली परियोजना के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करेंगे. केन बेतवा लिंक प्रोजेक्ट, नदियों को आपस में जोड़ने के लिए राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य योजना का पहला प्रोजेक्ट है.

इसके बाद पानी और जल संरक्षण से संबंधित मुद्दों पर चर्चा के लिए सभी जिले की ग्राम पंचायतों में ग्राम सभाएं आयोजित की जाएंगी. वहीं जल संरक्षण के लिए ग्राम सभाएं ‘जल शपथ’ भी लेंगी. जिन राज्यों में चुनाव हो रहा है वहां इस अभियान का आयोजन नहीं किया जाएगा. इस परियोजना से बुंदेलखंड के पानी की कमी से जूझ रहे जिले पन्ना, टीकमगढ़, छतरपुर, सागर, दमोह, दतिया, विदिशा, शिवपुरी और उत्तर प्रदेश के बांदा, महोबा, झांसी और ललितपुर जिलों को राहत मिलेगी. जल शक्ति अभियान से ज्यादा नदियों को जोड़ा जा सकेगा जिससे पानी की कमी से देश में विकास प्रभावित न हो. 



न्यूज़24 हिन्दी