कोरोना को लेकर नए निर्देश जारी, कार में सफर करने वालों को रखनी होगी ये अहम सावधानी, नहीं तो कट जाएगा बड़ा चालान

News

नई दिल्ली: कुछ दिनों की राहत के बाद कोरोना महामारी एक बार फिर पैर पसार रही है. जानकारों का कहना है कि इस बार खतरा पहले से ज्यादा है. इसे देखते हुए शासन-प्रशासन और अदालतों की तरफ से प्रतिदिन नए-नए दिशानिर्देश जारी किए जा रहे हैं, ताकि संक्रमण फैलने से रोका जा सके. इसी क्रम में दिल्ली उच्च न्यायलय ने बुधवार को एक अहम फैसला सुनाया है. इस फैसले में कोर्ट ने कहा है कि- निजी वाहन के अंदर भी मास्क पहनना अनिवार्य है, फिर चाहे चालक अकेला ही क्यों न हो, क्योंकि वाहन को सार्वजनिक स्थान माना जाता है.

यह निर्णय न्यायमूर्ति प्रतिभा एम सिंह की पीठ ने पारित किया जिन्होंने कहा कि मास्क सुरक्षा कवच के रूप में कार्य करता है, जो लोगों को घातक कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाता है. अदालत के आदेश के अनुसार, “कोविड-19 महामारी को देखते हुए निजी वाहन में मास्क या फेस कवर पहनना अनिवार्य होगा, फिर चाहे उसमें एक व्यक्ति बैठा हो या उससे ज्यादा.”

आप को बता दें कि इस बारे में लॉकडाउन लागू होने के समय से ही बहस जारी है कि निजी वाहन में एकल यात्री होने पर मास्क पहनना जरूरी होना चाहिए या नहीं. ऐसे में दिल्ली हाईकोर्ट ने दलीलों के एक समूह को भी खारिज कर दिया, जिनके तहत कार में अकेले ड्राइविंग करते समय मास्क पहनने के निर्देशों को चुनौती दी थी. यही नहीं अदालत ने कोरोना से सुरक्षा उपायों को चुनौती देने वाले मामलों को उठाने वाले वकीलों को भी फटकार लगाई. अदालत ने कहा कि- यह देखा गया कि यदि वकील नियमों का पालन करेंगे, तो आम लोगों को भी इनका पालन करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा.

बता दें कि इससे पहले एक वकील सौरभ शर्मा ने इस बारे में पुलिस द्वारा लगाए गए 500 रुपए के चालान के खिलाफ याचिका दायर की थी और बदले में 10 लाख रुपए का मुआवजा मांगा था. इसके जवाब में, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने कहा था कि उसने किसी वाहन में अकेले यात्रा करते समय लोगों को मास्क पहनने का निर्देश देने वाला कोई दिशा-निर्देश जारी नहीं किया है. लेकिन यह भी बताया कि स्वास्थ्य एक राज्य विषय है और यह मामला राज्य सरकार से संबंधित है. तब दिल्ली सरकार ने यह सुनिश्चित किया कि निजी वाहन भी एक निजी क्षेत्र नहीं बल्कि एक सार्वजनिक क्षेत्र माना जाएगा.

सनद रहे कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सार्वजनिक स्थान पर फेस मास्क नहीं पहनने पर किसी के लिए जुर्माने की राशि बढ़ाकर ₹ 500 से 2,000 से अधिक कर दी थी. .



न्यूज़24 हिन्दी