Close

चेन्‍नई में मुस्लिम व्‍यापारी ने राम मंदिर के लिए दिया इतने रुपये का दान, जानकर उड़ जाएंगे होश

News

नई दिल्‍ली: राम मंदिर निमार्ण के लिए देश भर से लोग दान दे रहे हैं. श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ने रविवार को बताया था कि मंदिर के लिए 1500 करोड़ से ज्‍यादा का चंदा उसके अकाउंट में जमा हो चुका है. देश में हिंदू ही नहीं बल्‍कि मुस्‍लिम भी मंदिर के लिए बढ़-चढ़कर दान कर रहे हैं. ऐसी ही एक खबर चेन्‍नई से आई है, जहां पर सांप्रदायिक सौहार्द शहर के एक मुस्लिम व्यवसायी ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए 1 लाख का दान दिया है.

उत्तर प्रदेश में मंदिर निमार्ण के तमिलनाडु के भक्तों द्वारा स्वैच्छिक दान दिया जा रहा है. यहां पर कोबलर्स और छोटे व्यापारियों की तरह दैनिक मजदूरी करने वाले लोग भी योगदान देने वालों में से हैं.

मंदिर के निर्माण के लिए केंद्र द्वारा स्थापित श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ने (SRJTK) 10 रुपये, 100 रुपये और 1,000 रुपये के दान कूपन तैयार किए हैं, जिनके लिए बड़ी संख्या में लोग दान करने के लिए आगे आए हैं. एसवी श्रीनिवासन ने कहा, वीएचपी राज्य आयोजन सचिव मंदिर के लिए धन जुटाने में शामिल है.

उन्होंने कहा, “जिन लोगों से हमने संपर्क किया, वे इस नेक काम के लिए दान कर रहे हैं.” जब स्वयंसेवकों ने उनसे संपर्क किया तो डब्ल्यू एस हबीब ने 1,00,008 का चेक मंदिर निमार्ण के लिए भेंट किया.

प्रॉपर्टी डेवलपर हबीब ने कहा, “मैं मुसलमानों और हिंदुओं के बीच सांप्रदायिक सौहार्द को बढ़ावा देना चाहता हूं. हम सभी भगवान के बच्चे हैं. मैंने इस विश्वास के साथ राशि दान की है.” उन्‍होंने कहा, ”कुछ वर्गों द्वारा मुसलमानों को हिंदुओं के विरोधी या भारत विरोधी के रूप में चित्रित किए जाने पर उन्हें पीड़ा होती है.”

यह बताते हुए कि अच्छे कारण के लिए दान करने में कुछ भी गलत नहीं था, हबीब ने कहा, “मैं किसी अन्य मंदिर में दान नहीं करता, लेकिन राम मंदिर अलग है क्योंकि अयोध्या विवाद कई दशकों से चला आ रहा था.”

हिंदू मुन्नानी जो अभियान में शामिल है, उन्‍होंने कहा कि धन जुटाने के लिए राज्य के विभिन्न हिस्सों में रोड शो आयोजित किए जा रहे हैं. हिंदू मुन्नानी के चेन्नई के अध्यक्ष एटी इलांगोवन ने कहा, “वे सभी जिन्हें हमने स्वेच्छा से दान के लिए बुलाया था, वहां पर भीड़ से आए एक सज्जन ने 50,000 रुपये का चेक भेंट किया.”

नवंबर 2019 में सुप्रीम कोर्ट ने दशकों पुराने विवाद को सुलझाया और अयोध्या में विवादित स्थल पर एक ट्रस्ट द्वारा राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया. इसके बाद केंद्र ने यूपी के पवित्र शहर में “प्रमुख” स्थान पर एक नई मस्जिद के निर्माण के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड को वैकल्पिक 5 एकड़ भूखंड आवंटित करने का निर्देश दिया था.

5 अगस्त, 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में एक भव्य मंदिर के निर्माण की आधारशिला रखी थी.



न्यूज़24 हिन्दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top