Close

Mother And Daughter Success Story: एक साथ मां-बेटी का सरकारी नौकरी में हुआ चयन, मां बच्चों को शिक्षित तो बेटी करेगी देश सेवा, जानिए सफलता की पूरी कहानी

Mother And Daughter Success Story: एक साथ मां-बेटी का सरकारी नौकरी में हुआ चयन, मां बच्चों को शिक्षित तो बेटी करेगी देश सेवा, जानिए सफलता की पूरी कहानी


जॉब डेस्क, Mother And Daughter Success Story

गलोड़ क्षेत्र के गांव ज्याणा की रहने वाली मां-बेटी की एकसाथ सरकारी नौकरी लगने से पूरे गांव में खुशी का माहोल हैं.

वहीं देश-प्रदेश में यह चर्चा का विषय बना हुआ है कि एक साथ दोनों सरकारी नौकरी के लिए चयनित हो गई हैं. जी हां मां-बेटी का चयन एक साथ सरकारी नौकरी में हुआ है, यह कोई संजोग से कम नहीं है.

यह भी पढें- 8वीं पास के लिए ग्रुप D के पदों पर निकली भर्ती, इंटरव्यू के आधार पर होगा चयन

एक छोटे से गांव की रीता ने कड़ी मेहनत और लग्न से खुद मुकाम हासिल किया, वहीं अपनी बेटी को भी पढ़ा लिखाकर आत्मनिर्भर बनाया है. वहीं उनके पति का भी उतना ही सहयोग रहा है.

देश में एक साथ दोनों ने नौकरी हासिल कर महिला सशक्तीकरण की एक मिसाल पेश की है. वहीं अन्य लड़कियों और महिलाओं को प्रेरणा दी है कि अगर वह मेहनत करें तो कुछ भी हासिल कर सकती हैं.

More About Mother And Daughter Success Story

आपको बता दें कि गलोड़ क्षेत्र की ग्राम पंचायत नारा के गांव ज्याणा (खरूणी) की रहने वाली रीता कुमारी और उनकी बेटी शिवानी ने एक साथ सरकारी नौकरी हासिल की है. रीता कुमारी पत्नी सुनील कुमार की नियुक्ति शिक्षा विभाग में टीजीटी आर्ट्स के तौर पर हुई है.

वहीं बेटी शिवानी का चयन आईटीबीपी में हुआ है. शिवानी को इसी माह देश सेवा में नौकरी ज्वाइन करने के आदेश मिले हैं. शिवानी ने बीएससी की पढ़ाई के बाद अब बीएड का अंतिम सेमेस्टर चल रहा है.

शिवानी बतातीं हैं कि देश सेवा का जज्बा उन्हें अपने दादा से मिला. क्योंकि शिवानी के दादा सेना में रहे हैं. वहीं सबसे बड़ी बात यह है कि पूरे प्रदेश में सामान्य वर्ग में महिला के लिए केवल एक ही पद था, जिस पर शिवानी का चयन हुआ है. शिवानी ने बताया कि उसकी प्रारंभिक शिक्षा आकाश मॉडल स्कूल लहड़ा, बारहवीं की शिक्षा सीसे स्कूल गलोड़ और बीएससी राजकीय महाविद्यालय हमीरपुर से हुई है.

वहीं आईटीबीपी की परीक्षा के बाद 13 जनवरी 2019 को उसका मेडिकल फिटनेस टेस्ट हो गया था, लेकिन कोरोना संकट की वजह से एक साल इंतजार करना पड़ा शिवानी को इंतजार करना पड़ा है.

शिवानी ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र से सेना में अभी तक नाममात्र की लड़कियां हैं. देश सेवा करने में अलग ही मजा है. वहीं शिवानी की मां रीता ने लाइब्रेरी साइंस में स्नातक व हिंदी में स्नातकोतर डिग्री हासिल की है. रीता ने टेट परीक्षा भी पास की है. रीता को 20 साल की कड़ी मेहनत के बाद आज सरकारी नौकरी करने का अवसर मिला है.

Mother And Daughter Success Story

रीता अपने बच्चों के भविष्य के प्रति हमेशा सचेत रहती थीं कि उन्हें बेरोजगारी का सामना न करना पड़े. मां-बेटी की एक साथ सरकारी नौकरी लगने से पूरे परिवार में खुशी का माहौल है. शिवानी की छोटी बहन बीटेक और भाई नवोदय विद्यालय में 11वीं कक्षा में पढ़ रहा है. शिवानी के पिता निजी स्कूल संचालक हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top