Close

सन‍् 1857 में आजादी की लौ जलाने वाले बैरकपुर रेजीमेंट के सिपाही मंगल पांडे को आज ही के दिन दी गयी थी फांसी!

सन‍् 1857 में आजादी की लौ जलाने वाले बैरकपुर रेजीमेंट के सिपाही मंगल पांडे को आज ही के दिन दी गयी थी फांसी!


नयी दिल्ली, 8 अप्रैल (भाषा)

देश की आने वाली पीढ़ियां आजाद हवा में सांस ले सकें और उनका भविष्य सुरक्षित हो, इसके लिए देश के कई नौजवानों ने अपने वर्तमान की कुर्बानी दे दी. 8 अप्रैल का दिन इन्हीं को समर्पित है. 1857 में देश में आजादी की पहली चिंगारी सुलगाने वाले बैरकपुर रेजीमेंट के सिपाही मंगल पांडे को 8 अप्रैल के दिन फांसी दे दी गई थी. देश में धधकती आजादी की आंच पूरी दुनिया तक पहुंचाने के लिए भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त जैसे आजादी के परवानों ने 8 अप्रैल, 1929 को दिल्ली के सेंट्रल एसेंबली हॉल में बम फेंका था. इस बम धमाके का मकसद किसी को नुकसान पहुंचाना नहीं बल्कि भारत के स्वतंत्रता आंदोलन की तरफ दुनिया का ध्यान आकृष्ट करना था.

देश-दुनिया के इतिहास में 8 अप्रैल की तारीख पर दर्ज अन्य महत्वपूर्ण घटनाएं :

  • 1894 : भारत के राष्ट्रीय गीत बंदे मातरम् के रचयिता बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय का कलकत्ता में निधन.
  • 1950 : भारत और पाकिस्तान के बीच लियाकत-नेहरू समझौता. यह समझौता दोनों देशों में रह रहे अल्पसंख्यकों के अधिकारों को सुरक्षित रखने और भविष्य में दोनों देशों के बीच युद्ध की संभावनाओं को ख़त्म करने के मकसद से किया गया था.
  • 1973 : स्पेन के चित्रकार पाब्लो पिकासो का निधन. इन्हें 20वीं शताब्दी का संभवत: सबसे प्रभावी चित्रकार माना जाता है. 
  • 2013 : ब्रिटेन की पूर्व प्रधानमंत्री मार्गेरेट थैचर का लंदन में निधन. वह ग्रेट ब्रिटेन ही नहीं किसी भी यूरोपीय देश की पहली महिला प्रधानमंत्री थीं और 20वीं शताब्दी में ब्रिटेन की एकमात्र प्रधानमंत्री थीं, जिन्होंने तीन बार लगातार यह पद संभाला.
  • जापान में बौद्ध धर्म को मानने वाले लोग इस दिन को भगवान बुद्ध के जन्मदिन के तौर पर मनाते हैं.



दैनिक ट्रिब्यून से फीड

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top