Close

टाइम मैगज़ीन में छपे योगी आदित्यनाथ के विज्ञापन को भारतीय मीडिया ने बड़ी उपलब्धि बता कर दिखाया

Thenewsrepair-05Jan2021 copy

भारत के मुख्यधारा के मीडिया ने हाल में टाइम मैगज़ीन में तीन पन्नों का एक विज्ञापन लेख (Paid Content) को वास्तविक न्यूज़ समझकर (सच मानकर) प्रकाशित और दिखाया. इन संस्थानों में ज़ी न्यूज़, ए.बी.पी गंगा, न्यूज़ 18 यूपी, टीवी9 भारतवर्ष और पत्रिका मुख्य रूप से शामिल हैं. 

इस पेड कंटेंट में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ़ की गयी है. इस पेड कंटेंट में बताया गया है कि कोरोनावायरस महामारी के दौराना योगी सरकार ने कैसे काम किया और किस तरह से इस महामारी से निपटा. 

इस विज्ञापित लेख (Paid Content) को ज़ी न्यूज़, ज़ी न्यूज़ (उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड), एबीपी न्यूज़ (गंगा) और न्यूज़18 यूपी-उत्तराखंड समेत कई न्यूज़ भी वास्तविक न्यूज़ मान बैठे. भारतीय मीडिया ने दावा किया कि टाइम मैगज़ीन ने योगी आदित्यनाथ पर एक पूरा लेख लिखा है.

देखिए किस तरह से भारत के मीडिया ने दिखाया.

पत्रिका

Yogi-Time_magazine

इनके अलावा सोशल मीडिया पर भी कई लोगों ने इस तरह की ख़बर को शेयर किया.

फैक्ट चैट

वास्तव में यह एक विज्ञापन लेख (Paid Content) था. जब हमने टाइम में छपी इस ख़बर की जांच की तो सामने आया कि यह लेख 5 दिसंबर को फर्स्ट इंडिया में इसी सामग्री में छपा है जो टाइम में छपा है. 

Yogi-First-India

तहलका में भी इस तरह का लेख 14 दिसंबर को छपा है. 14 दिसंबर को योगी आदित्यनाथ ऑफिस ट्वीटर हैंडल से टाइम मैगज़ीन में छपे लेख के तीन पेज की कटिंग शेयर की गई.

जबकि टाइम मैगज़ीन के साउथ एशिया डबल अंक(दिसंबर 21-28, 2020) में प्रकाशित है. इस लेख ऊपर लिखा है कि कंटेंट ‘फ्रोम उत्तर प्रदेश’. जैसे टाईम मैगज़ीन विज्ञापन पर लिखता है. ऐसा ही एलआईसी के एक विज्ञापन पर लिखा है ‘कंटेंट फ्रोम एलआईसी’.

बूम ने टाइम मैगज़ीन के डायरेक्टर ऑफ़ कम्युनिकेशन्स से संपर्क किया. उन्हें एक ईमेल जवाब में बताया गया है कि यह पूरा कंटेंट एक विज्ञापन है.

Yogi-Time-ad

इसके अलावा बूम और न्यूज़लोंडरी ने भी इसे फैक्ट चैक किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top