Close

Indian Idol: बेटे को पहली बार बड़े मंच पर परफॉर्म करते देख रो पड़े पिता, जानिए कौन हैं सवाई भट्ट

News

Nov. 29, 2020, 11:09 p.m.

नई दिल्ली: इंडियन आइडल रियलिटी शो के सीजन 12 में एक के बाद एक दमदार टेलेंट सामने आया है. इस साल सीजन 12 की थीम है- ‘फिर से बदलेगा देश का मौसम’ इंडियन आइडल 2020 के साथ. इंडियन आइडल के मंच पर राजस्थान के गच्छीपुरा, नागौर के सवाई भट्ट ने ऐसा जलवा दिखाया कि जज देखते ही रह गए.

इंडियन आइडल के कंटेस्टेंट सवाई भट्ट के पिता भी एक शानदार सिंगर हैं, बेटे को इतने बड़े मंच पर पहली बार परफॉर्म करते देख उनके आंसू निकल गए. अपना गुजारा चलाने के लिए पिता राजस्थान में कठपुतली का शो चलाते हैं. पारम्परिक संगीत उनकी शान है. सवाई भट्ट ने जब राजस्थानी गाने केसरिया बालम…को पेश किया, तो जज हिमेश, नेहा और विशाल देखते ही रह गए. हिमेश ने तो यहां तक कह दिया कि सन्नी हिंदुस्तानी और सलमान अली के बाद मैं हमेशा सोचता था कि मिशन इम्पॉसिबल 3 कैसे होगा, लेकिन आज इसका जवाब मिल गया. 

सवाई ने भी हमेशा संगीत की साधना की है, लेकिन उनके परिवार की आर्थिक स्थिति उनके सपनों में रुकावट बन गई. हालांकि दोस्तों के मोटिवेट करने के बाद उन्होंने आडिशन में जाने का फैसला लिया. सवाई का मानना है, जब से मोबाइल टीवी आया है, उनका कठपुतली का काम खत्म हो चुका है. 

सवाई ने संगीत में कोई भी औपचारिक प्रशिक्षण नहीं लिया है, लेकिन वह संगीत सीखना चाहते हैं और अपने हुनर से वो अपनी एक नई पहचान बनाना चाहते हैं. दरअसल, राजस्थान की कला संस्कृति विरासत में मिलती है, यह इतनी समृद्ध है कि ढाणियों के बच्चे शुरू से ही परफॉर्म करना शुरू कर देते हैं. 

सवाई ने राजस्थान का मशहूर गीत ‘केसरिया बालम’ अपने ऑडिशन में जज के सामने पेश किया. कहा जाता है भले ही आप राजस्थान न गए हों. लेकिन राजस्थान ‘केसरिया बालम’ के सुर बनकर आपके पास जरूर आता है. इंडियन आइडल के जज भी सवाई की परफॉर्मेंस देखकर मंत्रमुग्ध हो गए. उनकी तारीफ करते हुए उन्होंने कहा, सलमान और सनी के बाद उनमें अपने देश की आवाज बनने की काबिलियत है. सवाई की आवाज से खुश होकर उन्हें गोल्डन माइक मिल गया है. 



न्यूज़24 हिन्दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top