Close

पैंगोंग से सेना पीछे हटने के बाद अब इन दोनों क्षेत्रों पर बात करेंगे भारत और चीन

News

नई दिल्ली: पैंगोंग त्सो से दोनों देशों की सेना पूरी तरह से पीछे हटने के बाद भारत और चीन के बीच अगले दौर की बैठक के लिए देपसांग और गोगरा हॉट स्प्रिंग क्षेत्रों के एजेंडे में आने की संभावना है.

इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि एलएसी के साथ अन्य क्षेत्रों में भी चर्चा की जाएगी और यह स्पष्ट किया कि भारत ने इन वार्ताओं के दौरान कुछ भी स्वीकार नहीं किया है. सूत्रों ने कि बैठक के अगले दौर में इन दोनों क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा.

10वें दौर की वार्ता पर सहमति
भारत और चीन पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के उत्तर और दक्षिण के तट पर एक समझौते पर पहुंच गए और समझौते के अनुसार चीनी सैनिक वापस फिंगर 8 पर जाएंगे और भारतीय सैनिक पैंगोंग त्सो के उत्तरी तट के फिंगर 2 और 3 के बीच धन सिंह थापा की चौकी पर वापस आ जाएगी.

राजनाथ सिंह ने कहा कि सैन्य गतिविधियों पर अस्थायी रोक होगी, जिसमें पारंपरिक क्षेत्रों में गश्त शामिल है. दोनों पक्षों ने पूर्वी लद्दाख के पास वास्तविक नियंत्रण रेखा के साथ तनाव को कम करने के लिए 10वें दौर की वार्ता करने पर भी सहमति व्यक्त की है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, ”कोर कमांडर स्तर की सैन्य वार्ता (भारत और चीन के बीच) के 9वें दौर के बाद एक संयुक्त बयान जारी किया गया था. वार्ता का परिणाम स्पष्ट रूप से कहा गया था. जहां तक आगे की वार्ता का संबंध है, दोनों पक्ष 10वें दौर की वार्ता के लिए सहमत हुए हैं.”

इससे पहले आज, चीन ने पहली बार आधिकारिक तौर पर गलवान संघर्ष में हताहतों की संख्या स्वीकार की. पिछले साल के गलवान घाटी संघर्ष में एक चीनी सैन्य अधिकारी और चार सैनिक मारे गए थे.



न्यूज़24 हिन्दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top