News
भारत

सीएम गहलोत के साथ बैठक में जिम्मेदार बोले- सख्ती से लॉकडाउन ही विकल्प, सीम ने कहा- सबकी सहमति पर लेंगे फैसला

जयपुर: राजस्थान में तेजी से बिगड़ रहे हालात के बाद सीएम अशोक गहलोत ने रविवार शाम ओपन बैठक की. वे करीब 2 घंटे तक अधिकारियों, राजनीतिक दलों, धर्मगुरुओं, सामाजिक संगठनों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़कर चर्चा करते रहे. काफी विचार करने के बाद भी बैठक से कोई नतीजा नहीं निकला. 

लॉकडाउन को लेकर कुछ लोग नहीं बोले और काफी लोगों ने सख्ती से लॉकडाउन को आगे बढ़ाने की वकालत की. इधर सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि फैसला सबसे सलाह लेकर ही लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि कोरोना के हालात भयावह हैं. सच्चाई का सामना नहीं करेंगे तो हालात को काबू करना मुश्किल हो जाएगा. 

सीमए गहलोत ने कहा कि अगर बाहर निकलना पड़े, तो बिना मास्क के न निकलें. सिंगापुर में बिना मास्क पाए जाने पर 10 हजार का जुर्माना है. जहां सख्ती हुई है, वहीं कोरोना नियंत्रित हो सका है. आज की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग का मतलब यही है कि सभी साथी कोरोना को लेकर चिंतित हैं. कोरोना बढ़ गया, तो भारत सरकार भी ऑक्सीजन और दवा की आपूर्ति नहीं कर पाएगी. 

कुंभ, गुजरात और महाराष्ट्र से आने वालों के कारण गावों में पहुंचा कोरोना: 

सीएम गहलोत ने कहा कि अब 30 फीसदी कोरोना मरीज गांवों से आ रहे हैं. कुंभ से आने वालों के कारण गांवों में कोरोना फैला है. गुजरात-महाराष्ट्र से आने वालों के कारण डूंगरपुर, उदयपुर, बांसवाड़ा सहित कई जिलों के गांवों में कोरोना संक्रमण ज्यादा फैला है. उधर, एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिंपल डॉ. सुधीर भंडारी ने दो टूक कहा- जो लॉकडाउन के विरोधी हैं, वे किसी भी अस्पताल की इमरजेंसी में एक घंटा गुजार लें, भयावहता समझ आ जाएगी. जिंदा रहना ज्यादा जरूरी है. 



न्यूज़24 हिन्दी

You might also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *