News
भारत

पहले बेड नहीं मिला, फिर लाश ले जाने के लिए एंबुलेंस नहीं मिली, जवान बेटे का शव ई-रिक्शे में ले जाने के लिए मजबूर हुई मां

उत्तरप्रदेश: कोरोना महामारी ने देशभर की चिकित्सा व्यवस्थाओं की पोल-खोल कर रख दी है. इस दौरान दम तोड़ते लोगों के ऐसे-ऐसे वीडियो, ऑडियो और फोटो सामने आ रहे हैं, जिन्हें देखकर किसी की भी आत्मा रो उठेगी.

ऐसा ही एक मामला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से सामने आया है. यहां एक मां अपने जवान बेटे को लेकर अस्पताल से अस्पताल ऑक्सीजन बेड खोजती रही, लेकिन नाकाम रही. आखिरकार उसके बेटे ने दम तोड़ दिया.

लेकिन उस बेबस मां की तकलीफ और सिस्टम की लचरता यहीं खत्म नहीं हुई. इंतहा तब हो गई जब अपने जवान बेटे की लाश को ले जाने के लिए इस मां को एंबुलेंस तक नहीं मिली. नतीजतन इस मां को मजबूरी में अपने बेटे का शव ई-रिक्शा में रखकर ले जाना पड़ा.

इन फोटो में देखा जा सकता है कि कैसे मां बदहवास ई-रिक्शा में बैठी है, और कैसे बेटे का शव रिक्शे में से बाहर आधा झूल रहा है.

पत्रकार देवेश पांडेय ने इस बारे में ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा है कि ये मां अपने बेटे को बीएचयू के सर सुंदर लाल चिकित्सालय ले गई थी.



न्यूज़24 हिन्दी

You might also like