अभी-अभीभारतसरकारी योजनाएं

दिल्ली सरकार की बड़ी योजना, 50 हज़ार रुपए मिलेंगे और पानी के बिल पर 10 % Discount भी मिलेगा

0
kejriwal.jpg_5646

नई दिल्ली. दिल्ली के लोगों के लिए एक काम की ख़बर है. राजधानी दिल्ली में बारिश के पानी को बर्बाद होने से बचाने के लिए अरविंद केजरीवाल सरकार एक बड़ी योजना पर काम कर रही है. दिल्ली सरकार ने राजधानी के घरों में रेन वॉटर हार्वेस्टिंग प्रणाली लगाने के नियमों को आसान बनाने का फैसला किया है. ख़ास बात ये हैं कि सरकार इसके लिए आपको पचास हज़ार रुपए के साथ साथ पानी के बिल पर छूट भी देगी. आइए जानते हैं कि ये लाभ आप कैसे हासिल कर सकते हैं.

राजधानी दिल्ली में इस बार रिकॉर्ड तोड़ बारिश हुई है. शहर के ज़्यादातर इलाक़ों में जलभराव होने से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा. ऐसे में दिल्ली सरकार अब बारिश के पानी को बचाने के लिए रेन वॉटर हार्वेस्टिंग प्रणाली की योजना लेकर आई है. दिल्ली के जल मंत्री सत्येंद्र जैन ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक कर कई अहम फैसले लिए हैं. इस प्रणाली को लगाने वालों को सरकार 50 हजार रुपये तक की आर्थिक मदद देगी. साथ ही, पानी के बिल पर 10 फीसद की छूट भी मिलेगी. इस योजना के तहत अब एक सौ वर्ग मीटर या उससे अधिक क्षेत्रफल में बने घर में रेन वॉटर हार्वेस्टिंग प्रणाली लगाना अनिवार्य है. 31 दिसंबर तक लोगों को अपने घर में इसे लगाना होगा. लोगों को परेशानी न हो इसलिए अब इसके लिए दिल्ली जल बोर्ड के बजाय काउंसिल आफ आर्किटेक्चर में पंजीकृत किसी भी आर्किटेक्ट से प्रमाण पत्र हासिल किया जा सकता है. पहले इसके लिए दिल्ली जल बोर्ड से प्रमाणित कराना होता था. 

अब जानते हैं सरकार की ओर से दी जाने वाली आर्थिक सहायता किस किस को मिलेगी

*  एक सौ से 199.99 वर्ग मीटर की जमीन पर बने मकानों के लिए रेन वॉटर हार्वेस्टिंग प्रणाली की कुल लागत का 50 फीसद या 10 हजार रुपये की वित्तीय सहायता मिलेगी.

*  दो सौ से 299.99 वर्ग मीटर की जमीन पर बने मकानों के लिए कुल लागत का 50 फीसद या बीस हजार रुपये की सहायता.

*  तीन सौ से 399.99 वर्ग मीटर की जमीन पर बने मकानों के लिए कुल लागत का 50 फीसद या 30 हजार रुपये की सहायता.

*  चार सौ से 499.99 वर्ग मीटर की जमीन पर बने मकानों के लिए कुल लागत का 50 फीसद या 40 हजार रुपये.

*  पांच सौ वर्ग मीटर और उससे अधिक जमीन पर बने मकानों के लिए कुल लागत का 50 फीसद या 50 हजार रुपये.

ग्राउंड वॉटर लेवल को बढ़ाने और रेन वॉटर का कुशलता पूर्वक इस्तेमाल करने के लिए दिल्ली सरकार ने कई एक्सपेरिमेंट्स पर काम किया है. इसमें राजस्थान के डूंगरपुर का रेन वॉटर हार्वेसिटिंग माडल भी शामिल है. 

ये मॉडल ‘इनलाइन रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम के नाम से जाना जाता है. ये काफी किफायती है क्योंकि इसमें नई तकनीक का इस्तेमाल किया गयाहै. इसमें बारिश का पानी संग्रहण करने वाले गड्ढे की जगह सीधा बोरवेल में जाता है. इस प्रणाली में बारिश का पानी पाइप के अंदर ही फिल्टर हो जाता है, इसलिए अलग से फिल्टर प्रणाली या हार्वेस्टिंग पिट बनाने की जरूरत नहीं पड़ती. पारंपरिक रेन वॉटर हार्वेस्टिंग प्रणाली बनाने में 75 हजार से एक लाख रुपये तक का खर्च आता है. वहीं, ये प्रणाली मात्र 16 हजार रुपये में तैयार हो जाती है. रेन वॉटर हार्वेस्टिंग को बढावा देने के लिए जल बोर्ड ने दिल्ली के सभी जिलों में 12 जल शक्ति केंद्र बनाए हैं. इससे लोगों को तकनीकी सहायता मिलती है.

अगर आप भी केजरीवाल सरकार की इस योजना का फ़ायदा उठाना चाहते हैं, तो अपने घर के क्षेत्रफल के मुताबिक़ इसके लिए आवेदन कर सकते हैं…

You may also like

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *