Close

जहरीली शराब से एमपी के मुरैना में मौत का आंकड़ा बढ़कर हुआ 21

News

भोपाल: एमपी के जहरीली शराब कांड में न्यूज 24 पर खबर प्रमुखता से लगातार दिखाए जाने के बाद एक तरफ तो शिवराज सरकार ने जिले के कलेक्टर एसपी और तमाम अफसरों पर अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई कर गाज गिराई है. वहीं मुरैना में जहरीली शराब से मौतों का आंकड़ा लगातार बढ़कर 21 पहुंच चुका है.

एमपी के मुरैना में ज़हरीली शराब से मौत के बाद लाशों को सड़क पर रखकर चक्काजाम तस्वीर आज भी नजर आई, क्योंकि मौतों का आंकड़ा तकरीबन दोगुना होकर 21 हो गया. मुरैना में मृतक परिवारों के घर मातम पसरा तो सूबे में जैसे हड़कंप मच गया. आनन-फानन में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीएम हाउस में गृहमंत्री समेत गृह विभाग के तमाम अफसरों को तलब किया और इसके बाद एक झटके में मुरैना के एसपी, कलेक्टर का तबादला और एसडीओपी को निलंबित कर दिया.

हालांकि इस मामले में सूबे की सियासत भी तेज हो चुकी है. जहरीली शराब से मौतों के लिए कांग्रेस सीएम शिवराज सिंह चौहान को जिम्मेदार मानते हुए उनके खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करने की मांग कर रही है.

हालांकि इससे पहले मंगलवार को थाना प्रभारी, जिला आबकारी अधिकारी और बीट प्रभारियों पर गाज गिर चुकी है. लेकिन जैसे-जैसे जहरीली शराब से मौतों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे सरकार भी अफसरों पर गाज गिरी रही है. पुलिस ने अब तक 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया है, लेकिन 5 आरोपी अब भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं. पुलिस ने फरार आरोपियों पर 10-10 हजार का इनाम भी घोषित किया है. ज़हरीली शराब से अब भी दर्जन भर लोग अस्पताल में जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं.

बहरहाल, मध्यप्रदेश में जहरीली शराब से मौतों का अब का ये अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है. हालांकि इससे पहले भी लाक डाउन के दौरान एमपी के रतलाम में 10 और उज्जैन में 14 मौतें हुई थीं. बड़ी बता ये कि सरकार ने बावजूद इसके कोई सबक नहीं लिया.



न्यूज़24 हिन्दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top