देश में कोरोना मामले डेढ़ करोड़ के पार
बड़ी ख़बर

देश में कोरोना मामले डेढ़ करोड़ के पार


नयी दिल्ली, 19 अप्रैल (एजेंसी)

देश में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले 1.50 करोड़ के पार पहुंच गये हैं. करीब 25 लाख नये मामले महज 15 दिन के भीतर सामने आये हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से सोमवार सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार बीते 24 घंटे में रिकॉर्ड 2,73,810 नये मामलों की पुष्टि हुई. इस दौरान 1619 संक्रमितों की मौत के साथ मृतकों की कुल संख्या बढ़कर 1,78,769 हो गयी. वहीं, उपचाराधीन मरीजों की संख्या 19 लाख से अधिक हो गयी है.

देश में कोरोना मामले 19 दिसंबर को एक करोड़ के पार पहुंचे थे. इसके 107 दिन बाद 5 अप्रैल को मामले सवा करोड़ से अधिक हो गये. इसके बाद डेढ़ करोड़ के पार होने में महज 15 दिन लगे.

इस बीमारी से उबरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 1,29,53,821 हो गयी है. संक्रमितों के स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर गिरकर 86 फीसदी रह गयी है, जबकि मृत्यु दर 1.19 फीसदी है. भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद के मुताबिक, 18 अप्रैल तक 26.78 करोड़ से ज्यादा कोरोना टेस्ट किये जा चुके हैं. रविवार को करीब 13.56 लाख टेस्ट किए गये.

अगले माह से 18 प्लस को टीका

आगामी एक मई से 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोग कोविड-19 का टीका लगवा सकेंगे. यह फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में लिया गया. सरकार ने टीकाकरण अभियान में ढील देते हुए राज्यों, निजी अस्पतालों और औद्योगिक प्रतिष्ठानों को सीधे टीका निर्माताओं से खुराक खरीदने की अनुमति भी दे दी है. टीका निर्माता अपनी केंद्रीय औषधि प्रयोगशालाओं से हर महीने जारी खुराकों की 50 प्रतिशत आपूर्ति केंद्र सरकार को देंगे और बाकी 50 प्रतिशत वे राज्य सरकारों को तथा खुले बाजार में बेचने के लिए स्वतंत्र होंगे. टीका उत्पादकों को इसकी कीमत एक मई, 2021 से पहले घोषित करनी होगी. स्वास्थ्य कर्मियों, अग्रिम मोर्चे पर रहकर काम करने वालों और 45 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए टीकाकरण पहले की तरह सरकारी केंद्रों पर नि:शुल्क होगा.

एम्स-दिल्ली की ओपीडी 22 से रहेगी बंद

संक्रमण के मामलों में वृद्धि के बीच दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ने अपनी ओपीडी सेवा को बंद करने और सामान्य मरीजों को भर्ती करने संबंधी सेवा को स्थगित करने का फैसला किया है. इसका उद्देश्य वायरस के प्रसार को रोकना और संसाधनों को कोरोना वायरस से संक्रमित रोगियों के उपचार में लगाना है. एम्स प्रशासन ने सोमवार को एक बयान में कहा कि एम्स अस्पताल और सभी केंद्रों में रोगियों को भर्ती करने की सेवा को तत्काल 2 सप्ताह के लिए अस्थायी रूप से स्थगित करने का निर्णय किया गया है. अवधि की समीक्षा बाद में की जाएगी.

मनमोहन सिंह संक्रमित, एम्स में भर्ती

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह कोरोना वायरस से संक्रमित हो गये हैं. उन्हें सोमवार को एम्स में भर्ती कराया गया. सूत्रों ने बताया कि उन्हें हल्का बुखार है और जांच में उनके कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई. फिलहाल वह चिकित्सकों की निगरानी में हैं.

दिल्ली में 47 साल के जज की मौत : दिल्ली की साकेत कुटुंब अदालत के जज कोवई वेणुगोपाल का सोमवार को कोरोना से निधन हो गया. वे 47 वर्ष के थे. सूत्रों के अनुसार उन्हें रविवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. साकेत बार संघ के सचिव धीर सिंह कसाना ने कहा, ‘हम सरकार से बार-बार कह रहे हैं कि सभी जजों और वकीलों के लिए टीकाकरण अनिवार्य किया जाए, क्योंकि हमें हजारों लोगों के बीच काम करना होता है. सरकार हमारी मांग मान लेती तो यह घटना नहीं होती.’



दैनिक ट्रिब्यून से फीड