Close

गुजरात निकाय चुनाव में ‘आप’ के प्रदर्शन से खुश हुए सीएम केजरीवाल, कही ये बड़ी बात

News

नई दिल्लीः आम आदमी पार्टी ने भारतीय जनता पार्टी के गढ़ गुजरात में संपन्न हुए नगर निगमों के चुनाव में धमाकेदार एंट्री की है. ‘आप’ के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘‘नई राजनीति की शुरूआत करने के लिए गुजरात के लोगों को दिल से बधाई.’’उन्होंने कहा कि गुजरात के लोगों ने काम की राजनीति को वोट दिया. गुजरात के लोग बीजेपी और कांग्रेस की राजनीति से त्रस्त थे. गुजरात के लोगों को एक विकल्प चाहिए था और आम आदमी पार्टी के रूप में उनको यह विकल्प मिला है. अब आने वाला चुनाव सिर्फ आम आदमी पार्टी और बीजेपी के बीच होगा.

वहीं, ‘आप’ के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि मोदी के गढ़ में लोग बीजेपी को बदलने कोशिश कर रहे हैं और वह मौका कांग्रेस की जगह आम आदमी पार्टी को दे रहे हैं. यह पहली बार सच होने जा रहा है कि गुजरात में सिर्फ बीजेपी और आम आदमी पार्टी ही है, वहां कांग्रेस नाम की कोई तीसरी पार्टी नहीं है. उन्होंने कहा कि देश भर से कांग्रेस अब खत्म होती जा रही है. जब तक कांग्रेस खत्म नहीं होगी, तब तक बीजेपी की सरकारें बनती रहेंगी, क्योंकि कांग्रेस बीजेपी की ऑक्सीजन हैं. सौरभ भारद्वाज ने रूझानों का हवाला देते हुए कहा कि अभी तक ‘आप’ सूरत में 27 सीटें जीत गई है और 17 सीटों पर दूसरे नंबर पर है, जबकि राजकोट में 13 और अहमदाबाद में 16 सीटों के साथ दूसरे नंबर पर है.

वहीं, आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि गुजरात के सभी शहरों में लोग आम आदमी पार्टी पर भरोसा जता रहे हैं. बीजेपी के गढ़ सूरत में आम आदमी पार्टी नंबर दो पर है. लोग अब परिवर्तन चाह रहे हैं और वो आम आदमी पार्टी के रूप में देख रहे हैं. अभी तक गुजरात में जो सेटिंग की राजनीति थी, उसका अंत हो गया. अब सेटिंग की राजनीति नहीं चलेगी, अब जनता के मुद्दे चलेंगे. हम जनता के मुद्दों को सड़क पर भी उठाएंगे और सदन में भी उठाएंगे. सूरत के लोगों ने गजब कर दिया है, उन्हें धन्यवाद है. गुजरात के लोग बीजेपी से परेशान हो चुके हैं, उन्हें कांग्रेस पर भरोसा नहीं है. बीजेपी के प्रति लोगों में गुस्सा है और आम आदमी पार्टी उनकी एक उम्मीद बन गई है. 

आम आदमी पार्टी मुख्यालय में आज मुख्य प्रवक्ता एवं विधायक सौरभ भारद्वाज ने एक प्रेस वार्ता को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि जैसा कि विदित है, आम आदमी पार्टी दिल्ली के अलावा देश के अलग-अलग राज्यों में पहली बार जमीनी स्तर के चुनाव लड़ रही है. ‘आप’ शहरी क्षेत्रों में नगर निगम और ग्रामीणों क्षेत्रों में ग्राम पंचायत व जिला पंचायत के चुनाव लड़ रही है. हमने महाराष्ट्र और हिमाचल के अंदर चुनावों में शिरकत की.

 पंजाब के अंदर नगर निगम का चुनाव लड़ा और आज गुजरात के अंदर पहली बार आम आदमी पार्टी ने नगर निगमों के चुनाव लड़े. यह चुनाव गुजरात के बड़े-बड़े शहरों के अंदर लड़े जा रहे हैं. वहां से लोगों के लिए काफी चैकाने वाले नतीजे आ रहे हैं. गुजरात का सबसे मशहूर महानगर सूरत, जो डायमंड और टैक्सटाइल इंडस्ट्री के लिए पूरे देश और पूरी दुनिया में जाना जाता है. सूरत डायमंड सिटी और टेक्सटाइल सिटी कहलाता है. 

‘गुजरात के अंदर आ रहे परिणामों के कई राजनीतिक मायने भी निकाले जाएंगे’

सौरभ भारद्वाज ने कहा कि गुजरात के अंदर जो परिणाम आए हैं, इनके कई राजनैतिक मायने भी निकाले जाएंगे. हमारी समझ में यह एक बहुत बड़ी बात है कि मोदी का विकास मॉडल कहलाने वाला गुजरात, जहां पर पिछले 25 सालों से सूरत नगर निगम में और गुजरात में बीजेपी की सरकार है, वहां पर आज लोग अगर बीजेपी को बदलने की कोशिश कर रहे हैं, तो वह मौका कांग्रेस की जगह आम आदमी पार्टी को दिया जा रहा है. मैं खुद कुछ दिनों पहले गुजरात के सूरत, बड़ोदरा और अन्य शहरों में गया था. वहां पूरे चुनाव के दौरान कांग्रेस कहीं पर भी लड़ती नजर ही नहीं आई. वहां पर न तो कांग्रेस सड़क पर चुनाव लड़ती नजर आई और न पिछले 25 सालों में कांग्रेस किसी सदन के अंदर बीजेपी से लड़ती दिखी. वहां पर ऐसा कहीं लगता ही नहीं है कि कोई दूसरी पार्टी है. वहां सिर्फ एक पार्टी, बीजेपी है. 

‘लोग अब बीजेपी का विकल्प कांग्रेस की जगह आम आदमी पार्टी में देख रहे हैं’

सौरभ भारद्वाज ने कहा कि पूरे देश में कहा जाता था कि गुजरात दो पार्टियों का राज्य है. मुझे लगता है कि आज पहली बार यह सच होने जा रहा है कि गुजरात दो पार्टियों का राज्य है, जहां बीजेपी और आम आदमी पार्टी है. वहां पर तीसरी कोई पार्टी नहीं है. दूसरी बड़ी बात यह है कि जहां-जहां लोग बीजेपी से परेशान हैं, जहां-जहां भी देश के अन्य राज्यों में लोगों को लगा कि बीजेपी के शासन में उनकी उम्मीदें और वादे पूरे नहीं हुए. वहां लोगों ने बीजेपी को हराने के लिए वोट दिया. पहली विपक्षी दल होने के नाते कांग्रेस को वोट मिला और कांग्रेस ने सीटें जीती, मगर कांग्रेस के विधायक जीतने के बावजूद भी सरकारें बीजेपी की बनी. जिससे लोग बहुत आहत और दुखी हैं. 

लोगों को लगता है कि यह धोखेबाजी है और ऐसा एक जगह नहीं हुआ. ऐसा गोवा में हुआ, कर्नाटक में हुआ, मध्य प्रदेश में हुआ और अभी हाल ही में दो-तीन दिन पहले पुंडीचेरी में हुआ. इस तरह वोट अगर कांग्रेस को भी दिए जा रहे हैं, तो सरकार बीजेपी की बन रही है, क्योंकि वोट कांग्रेस को दिया जाता है, विधायक चुन कर कांग्रेस का आता है, लेकिन बिक कर वह बीजेपी में चला जाता है और सरकार बीजेपी की बन जाती है. कांग्रेस की यह बहुत बड़ी आंतरिक समस्या हो गई है कि लोगों को बीजेपी का विकल्प अब कांग्रेस में दिखना बंद हो गया है. अब बीजेपी का वह विकल्प आम आदमी पार्टी है. 

‘कांग्रेस बीजेपी का आँक्सीजन’

सौरभ भारद्वाज ने कहा कि आम आदमी पार्टी बहुत सारे राज्यों में जमीनी स्तर पर चुनाव लड़ रही है. कहीं पर हम जीत रहे हैं और कहीं पर हम हार रहे हैं, लेकिन यह बात सामने निकल कर आ रही है कि कांग्रेस अब खत्म हो रही है. जब तक कांग्रेस खत्म नहीं होगी, तब तक बीजेपी की सरकारें बनती रहेंगी. क्योंकि कांग्रेसी बीजेपी का ऑक्सीजन हैं. कांग्रेस वह पंचिंग बैग है, जिसको पंच कर, करके मोदी बॉक्सर नंबर वन कहलाते हैं. राहुल गांधी इस राजनीतिक के रेसलिंग के वो खिलाड़ी हैं, जिसके अंदर मोदी अपने खिलाफ कौन बॉक्सिंग करेगा, वह स्वयं मोदी चुनते हैं. वह कहते हैं कि मेरा मुकाबला किसी से नहीं है, मेरा मुकाबला सिर्फ राहुल गांधी से है. राहुल गांधी बनाम नरेंद्र मोदी कर, नरेंद्र मोदी को ऊपर और राहुल गांधी को नीचे दिखाकर नरेंद्र मोदी को निर्विरोध भारत का नेता बनाया जा रहा है. कांग्रेस बीजेपी का आँक्सीजन है और राहुल गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राजनीतिक ऑक्सीजन हैं.



न्यूज़24 हिन्दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top