News
भारत

Breaking News: राज्य सरकारें श्रमिकों को भरोसा दिलाएं और वे जहां हैं वहीं रहने के लिए उनसे आग्रह करें- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली: मंगलवार रात को देश के नाम अपने संबोधन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य सरकारों से अपील की है कि वे श्रमिकों को भरोसा दिलाएं और वे जहां हैं वहीं रहने के लिए उनसे आग्रह करें.

इस संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- हमारा प्रयास है कि जीवन बचाने के साथ आर्थिक गतिविधियां कम से कम प्रभावित हों. वैक्सीनेशन को 18 वर्ष से ऊपर करने से शहरों में तेजी से वैक्सीन उपलब्ध होगी. राज्यों और केंद्र सरकारों के प्रयासों से श्रमिकों को तेजी से वैक्सीन मिलने लगेगी. मेरा राज्य सरकारों से अनुरोध है कि श्रमिकों का भरोसा बनाए रखें.

उनसे आग्रह करें कि वे जहां हैं, वहीं बने रहे हैं. वे जिन शहरों में हैं, वहीं पर वैक्सीन भी लगेगी और काम भी बंद नहीं होगा. पिछली बार परिस्थितियां अब से बहुत अलग थीं. तब हमारे पास कोरोना महामारी से लड़ने के लिए कोरोना इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं था. आप याद कीजिए कि कोरोना टेस्टिंग के लिए पर्याप्त लैब नहीं. हमारे पास पीपीई नहीं. हमारे पास कोई खास जानकारी नहीं. लेकिन बहुत कम समय में हमने इन चीजों में सुधार किया.

आज हमारे डॉक्टरों ने कोरोना के इलाज में एक्सपर्टीज हासिल कर ली है. वे ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोगों को बचा रहे हैं. आज हमारे पास पीपीई किट हैं. बड़ी संख्या में लैब हैं. हम लोग टेस्टिंग की संख्या को ज्यादा से ज्यादा बढ़ा रहे हैं.

साथियों इस बार जैसे ही कोरोना के केस बढ़े, देश के फार्मा सेक्टर ने दवाइयों का उत्पादन और बढ़ाद िया है. आज जनवरी-फरवरी की तुलना में कई गुना ज्यादा दवाइयों का प्रोडक्शन हो रहा है. इसे भी और तेज किया जा रहा है. कल भी मेरी देश की फार्मा इंडस्ट्री के बड़े प्रमुख लोगों से बहुत लंबी चर्चा हुई है. प्रोडक्शन बढ़ाने के लिए हर तरीके से दवाई कंपनियों की मदद ली जा रही है.

हम सौभाग्यशाली हैं कि हमारे देश के पास इतना बड़ा मजबूत फार्मा सेक्टर है. जो बहुत अच्छी और तेजी से दवाइयां बनाता है. इसके साथ ही अस्पतालों में बेड की संख्या को बढ़ाने का काम तेजी से चल रहा है. कुछ शहरों में ज्यादा डिमांड को देखते हुए बड़े और विशाल कोविड हॉस्पिटल्स बनाए जा रहे हैं. 

हमारे वैज्ञानिकों ने बहुत कम समय में कोरोना के वैक्सीन तैयार किये हैं. आज दुनिया की सबसे सस्ती कोरोना वैक्सीन हमारे पास है. वैक्सीन्स की अप्रूवल और रेग्युलेटरी प्रोसेस को ट्रैक पर रखते हुए, सभी साइंटिफिक और रेग्युलेटरी मदद को बढ़ाया गया है. इसलिए ही हमारा भारत दो मेड इन इंडिया वैक्सीन्स के साथ दुनिया का टीकाकरण अभियान की शुरूआत कर सका.



न्यूज़24 हिन्दी