Close

अदम्य साहस और शौर्य का परिचय देने पर मिलेगा वीरता पुरस्कार, जानिए इनके साहस की कहानी

News

अमित कुमार, नई दिल्ली: देश की आन बान शान हमारे जवानों से है. वे जवान, जो देश के लिए अपने प्राणों की आहूति देने से भी पीछे नहीं हटते. 72वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल (आईटीबीपी) के 17 पदाधिकारियों को भारत सरकार द्वारा विभिन्न पदकों से सम्मानित किए जाने की घोषणा की गई है.

गैलेंट्री अवॉर्ड असिस्टेंट कमांडेंट अनुराग के सिंह और डिप्टी कमांडेंट राजेश लूथरा को दिया जाएगा. अनुराग के सिंह ने जुलाई 2017 में राष्ट्रीय राइफल्स के साथ मिलकर हिजबुल मुजाहिद्दीन के दो आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया था. अधिकारी को असाधारण नेतृत्व  क्षमता, सजगता, साहस व शौर्य का परिचय देने पर उनको वीरता के लिए पुलिस पदक (फर्स्ट बार) से सम्मानित किया गया है. इसके साथ ही 2019 में डिप्टी कमांडेंट राजेश लूथरा ने लद्दाख फेसऑफ में साहस का परिचय दिया. 

विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक:  

दीपम सेठ, आई.पी.एस., महानिरीक्षक, उत्तर- पश्चिम फ्रंटियर मुख्यालय

सुनील चंद्र ममगई, उप महानिरीक्षक, पूर्वोत्तर फ्रंटियर मुख्या्लय

मनोहर सिंह रावत, द्वितीय कमान, 21वीं वाहिनी

सराहनीय सेवा के लिए पुलिस पदक:  

अपर्णा कुमार, आई.पी.एस. उप महानिरीक्षक, क्षे.मु. (देहरादून)

डॉ. सुधाकर नटराजन, उप महानिरीक्षक(वेटनरी), महानिदेशालय

सुरिन्दर खत्री, सेनानी, एन.आई.टी.एस.आर.डी.आर.

राकेश कोठियाल, सी.एम.ओ (एस.जी.), सेन्ट्र्ल फ्रंटियर मुख्याललय

शिव लाल, सेनानी (अभियंता), पूर्वी फ्रंटियर मुख्यालय

हफिजुल्ला सिद्दीकी, द्वितीय कमान, क्षे.मु. (लेखाबली)

राजेंद्र प्रसाद सुन्दरियाल, उप सेनानी(कार्यालय), पूर्वी फ्रंटियर मुख्यालय

धन प्रकाश त्यागी, सहायक सेनानी (लेखा अधिकारी), महानिदेशालय

गोविन्द सिंह, अनुभाग अधिकारी, महानिदेशालय

लाल सिंह, निरीक्षक (जीडी), 17वीं वाहिनी

दयाल सिंह, निरीक्षक (टेली), क्षे0मु0 (देहरादून)

विकुल ठाकुर, कांस्टेबल (बारबर), क्षे0मु0 (पटना) 

एस.एस. देसवाल, महानिदेशक, आईटीबीपी ने पदक प्राप्तकर्ता कार्मिकों को शुभकामनाएं दी हैं. 



न्यूज़24 हिन्दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top