Close

बीजेपी विधायक देवनानी का आरोप- कुछ लोग जयपुर को हैदराबाद बनाने की कोशिश कर रहे हैं

News

के जे श्रीवत्सन, जयपुर: राजस्थान में तोड़फोड़ के एक मामले में राजनीतिक रार शुरू हो गई है. बीजेपी विधायक देवनानी ने आरोप लगाया कि कुछ लोग जयपुर को हैदराबाद बनाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन हम ऐसा होने नहीं देंगे. देवनानी ने कहा, इस्लामिक आतंकवाद पर चर्चा जरूरी है.

देवनानी ने कहा, जयपुर को उस हैदराबाद की तरह बनाने की कोशिश की जा रही है, जोकि हाईटेक सिटी कम और इस्लामी आतंकवाद के आरोपों के चलते कुछ लोगों के बीच खासा सुर्ख़ियों में है. यदि राजस्थान बीजेपी नेताओं की माने तो जयपुर में पिछले कुछ दिनों से जिस तरह की घटनाएं सामने आ रही हैं, उससे तो यही लगता है कि गुलाबी शहर पर शायद किसी की कोई नजर लग रही है. 

दरअसल यह आरोप और किसी ने नहीं बल्कि राजस्थान के पूर्व शिक्षा मंत्री और बीजेपी विधायक वासुदेव देवनानी और विधायक अशोक लाहौटी की तरफ से लगाकर सवाल खड़ा किया गया है. उनका आरोप जयपुर में दो दिन पहले इस्लामी आतंकवाद को इस्लाम का ही एक रूप बताकर किताब छापने वाले संजीवनी पब्लिशर के ऑफिस पर हमले की घटना के बाद सामने आया है. 

बीजेपी के इस नेता को लगता है कि जिस तरह से कुछ लोगों ने मिलकर दुकान पर हमला कर तोड़फोड़ की और धमकियां दीं, वह किसी आतंकी घटना से कम नहीं कही जा सकती. अपने इन आरोपों पर सरकार से सफाई जानने के लिए ये राजस्थान बीजेपी के विधायक अशोक लाहोटी और वासुदेव देवनानी ने इस्लामिक आतंकवाद पर चर्चा के लिए विधानसभा में बाकायदा स्थगन प्रस्ताव तक लेकर आ गए लेकिन स्पीकर ने इसे खारिज कर दिया. 

जिस पर इन दोनों विधायकों ने आरोप लगते हुए कहा की पूरा विश्व आतंकवाद की चपेट में है तो हमें भी इस्लामी आतंकवाद पर चर्चा से नहीं घबराना चाहिए. विधानसभा में भले ही इस मुद्दे पर ये दोनों विधायक कुछ भी नहीं बोल पाए, लेकिन विधानसभा के बाहर विधायक देवनानी ने मीडिया से बातचीत करते हुए अपने दिल की बात को जुबान पर ला ही दिया और कहा कि जिस तरह यहां कुछ लोग इस तरह की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं, वे लोग जयपुर को हैदराबाद बनाने का कुचक्र रच रहे हैं. हम ऐसा होने नहीं देंगे. 

हालांकि इन विधायकों ने यह भी माना कि हर मुसलमान आतंकवादी नहीं है, लेकिन देश या दुनिया में जितने आतंकवादी पकड़े जाते हैं उसमें ज्यादातर मुसलमान हैं. उन्होंने कहा कि किताब प्रकाशक ने जिस तरह अपनी तमाम किताबों को बाजार से वापस ले लिया. लिखित में माफीनामा मांगा. उसके बाद भी इस तरह तोड़फोड़ करना तथा जयपुर को हैदराबाद बनाने का कुचक्र है. 

वहीं बीजेपी के दुसरे विधायक अशोक लाहोटी ने एक कदम आगे बढ़ते हुए इस पर कहा कि जिस तरह संगठित गिरोह ने पब्लिकेशन के ऑफिस पर हमला किया. यह हूबहू संगठित आतंकवादी संगठन जैसी घटना है. जिसे गंभीरता से लिया जाना चाहिए. राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की राजनीति विज्ञान की किताब के पेज नंबर 149 व 157 में इस्लामिक आतंकवाद पर प्रश्न पूछा गया है. आज पूरा विश्व मान रहा है कि इस्लामिक आतंकवाद बढ़ा है. 

श्रीलंका ने भी बुर्के पर बैन कर दिया. फिर हमारे यहां इस्लामिक आतंकवाद पर चर्चा करने से डर क्यों? क्या इस देश में आतंकवाद को कोई संरक्षण दिया जा रहा है. जिस कारण इस पर खुलकर चर्चा नहीं होती? 

ये है मामला 

दरअसल यह पूरा मामला उस वक़्त सामने आया जब जयपुर में एक किताब के विवादित कंटेंट के खिलाफ समुदाय विशेष के लोगों ने पब्लिशर के ऑफिस पर हमला कर दिया. जयपुर के चारदीवारी में स्थित संजीव पब्लिकेशन पर इस्लामिक आतंकवाद पर छापे गए एक चैप्टर से खफा होकर किया गया. हमलावरों ने ऑफिस में रखा फर्नीचर तोड़ दिया और वहां रखी दूसरी किताबों को भी फाड़ दिया. हालांकि पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है लेकिन इस पर मचा राजनीतिक बवाल अब तक खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. 



न्यूज़24 हिन्दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top