Close

एंटीलिया मामले में सिम कार्ड से हुआ बड़ा खुलासा

News

ठाकुर भूपेन्द्र सिंह, अहमदाबाद: मुंबई एटीएस ने एंटीलिया मामले में गुजरात से उस व्यक्ति को गिरफ्तार किया है, जिसने इस केस के एक आरोपी नरेश गौर को वो सिम कार्ड सप्लाई किए थे, जो इस मामले के मुख्य आरोपियों विनायक शिंदे और सचिन वजे द्वारा इस्तेमाल किए गए थे. सोमवार को मुंबई एटीएस ने गुजरात से गायत्री ट्रेडर्स के मालिक किशोर ठक्कर को गिरफ्त में ले लिया. 

किशोर ठक्कर ने ही बुकी नरेश गौर को 14 सिम कार्ड सप्लाई किए थे, जिनमें से 5 सिम कार्ड गुनाह में उपयोग में लाए गए. किशोर ठक्कर ने ये सिम कार्ड, अहमदाबाद के बोड़कडेव स्थित वस्त्रापुर स्टोर से अपनी कंपनी के उपयोग के लिए खरीदे थे. बाद में इन्हें नरेश गौर को गैरकानूनी तरीके से दे दिए थे. पता चला है कि किशोर ठक्कर इससे पहले भी कई बार सट्टा बैटिंग में शामिल नरेश गौर को बल्क में सिम कार्ड सप्लाई कर चुका है. 

जांच में ये पता चला है कि सचिन वजे और विनायक शिंदे ने एजंसियों को भटकाने के लिए ही गुजरात के सिम उपयोग में लिए थे, ताकि उनपर आसानी से किसी का ध्यान न जा सके और इस दौरान उन्हें तमाम साबूत मिटाने का मौका मिल जाए. 

इसीलिए उन्होंने मूलतः कच्छ के निवासी और मुंबई से ऑपरेट करने वाले बुकी नरेश गौर को इस काम में लगाया और उसने गुजरात में अपने पुराने सप्लायर से ये सिम लाकर के उन्हें दिए. इन मुख्य आरोपियों का इरादा था कि जांच एजेंसियां यही समझती रहें कि गुनहगार राज्य के बाहर से हैं, लेकिन सिम की कहानी का राज खुलने से ये साफ़ हो गया है कि एंटीलिया कांड और मनसुख की हत्या के मास्टर माइंड ये दोनों ही हैं. 



न्यूज़24 हिन्दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top