कैटेगरी: हरियाणा

अजब-गजब: जब जिद्दी मकान मालिकों ने किया हिलने से इ


द न्यूज़ रिपेयर

दुनिया में विकास बड़ी तेज से हो रहा है. जहां कभी खेत खलियान हुआ करते थे आज वहां बड़ी बड़ी इमारतें खड़ी हो गई हैं. हर जगह बडी तेजी से निर्माण चल रहा है. लेकिन इस विकास में अक्सर पुरानी चीजों की बलि चढ़ाई जाती है. पैसों के लालच में कुछ लोग आसानी से अपनी जमीन बिल्डरों के नाम कर देते है तो कुछ लोग मजबूरी में.

लेकिन कुछ लोग अपने घरों से इस तरह जुड़े होते है कि कोई कीमत उन्हे खरीद नहीं पाती. पैसों का लालच, जान से मारने की धमकी और ना जाने क्या-क्या सहने के बाद भी कुछ गिने चुने मकान मालिक अपने घर बिल्डरों को नहीं बेचते. आज हम ऐसे ही जिद्दी मकान मालिकों को बारें में बताने जा रहा है. जिन्हे कोई लालच कोई डर हिला नहीं पाया.

नेल हाउस

तस्वीर को देखकर लगता है कि इस घर के पास कोई धमाका हुआ होगा. जबकि ऐसा कुछ नहीं हुआ. बस इस घर के मालिक ने अपना घर बेचने से मना कर दिया. अपने घर को बचाने के लिए उस शख्स को 2 साल तक लोकल गवर्नमेंट से केस लड़ना पड़ा. घर खाली करवाने के लिए सरकार भी उसे काफी परेशान किया. घर का पानी, बिजली सब बंद कर दी गई. लेकिन इस घर के मालिक ने हार नहीं मानी. नदी से पानी लाया, मोमबत्ती से काम चलाया लेकिन घर खाली नहीं किया. और अंत मे बिल्डर को हार माननी पड़ी.

ऑस्टिन स्पृग्ग्स

घर सिर्फ ईंट पत्थर से बना मकान नहीं होता, बल्कि यादों से भरा होता है. ऐसे में किसी और के सपने को पूरा करने के लिए अपने सपनों का घर कैसे छोड़ दें. ऐसा ही किया था अमेरिका के ऑस्टिन स्पृग्ग्स ने. ऑस्टिन के घर के लिए लोग उन्हे करोड़ो रुपय देने के लिए तैयार थे लेकिन ऑस्टिन ने कभी हामी नहीं भरी. ऑस्टिन का घर खरीदने के लिए उसके सभी अरमानों को पूरा करने का वादा किया गया लेकिन ऑस्टिन अड़ा रहा. बिल्डर भी काफी जिद्दी था उसने ऑस्टिन के पास की एक जमीन खरीदकर वहाँ एक बड़ी बिल्डिंग खड़ी कर दी. जिसके बाद साल 2011 में ऑस्टिन ने अपना घर 7.5 लाख डॉलर मे बेच दिया.

मैक्सीफिल्ड

ये घर अमेरिका के फ़ेमस शहर न्यूयॉर्क में है. यहां घर खरीदना कोई आसान काम नहीं है. और जिसके पास घर है वो बेचना नहीं चाहता. यहां एक मॉल है जो बीच के हिस्से मे खाली है. उस खाली जगह में एक छोटा सा घर है. जब इस जगह पर मॉल बनाया गया, तब इस घर के मालिक को करोड़ो रुपय का ऑफर दिया गया लेकिन मालिक ने इसे साफ बेचने से मना कर दिया. बिल्डर्स ने उस खाली जगह को छोडकर बाकी जगह पर एक मॉल खड़ा कर दिया. बाद में उस घर के मालिक की दोस्ती उस कॉन्ट्रैक्टर से हो गयी और जब वो मर गए तो उसका घर कॉन्ट्रैक्टर को दे दिया गया. क्योंकि यही उस घर के मालिक की आखिरी इच्छा थी.

लुओ बौगेन

चाइना में एक सड़क को दो हिस्सों मे बाटना पड़ा. क्योंकि जिस जगह से सड़क को जाना था, वह पर एक घर बना हुआ था. 5 मंजिल का घर सड़क के बीच में आ रहा था. लेकिन घर के मालिक ने घर छोड़ने से मना कर दिया. चीन की सरकार की तरफ से भी मकान मालिक को समझाया गया लेकिन वो नहीं माने और सरकार को छुकना पड़ा.

ऑस्ट्रेलिया हाउस

ये हाउस ऑस्ट्रेलिया मे मेल्बर्न मे स्थित है. जहां एक बिल्डर ने पूरी कॉलोनी खरीद ली लेकिन ये मकान नहीं खरीद पाया. करोड़ों रुपये का लालच देने के बाद भी घर के मालिक ने घर नहीं बेचा. बिल्डर यहां पर शॉपिंग मॉल बनाना चाहता था लेकिन मकान मालिक के ज़िद्द के आगे उसकी एक ना चली.

ट्रम्प हाउस

ये तो सब जानते है कि अमेरिका के प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प का नाम दुनियाभर के बड़े बिल्डर्स में गिना जाता था. लेकिन इस मकान मालिक ने उन्हें भी मकान खाली करने से माना कर दिया था. ट्रम्प ने कई बड़े टावर बनावाये जिनमें से एक है न्यूयॉर्क मे बना ट्रम्प टावर. लेकिन वह उस टाअर के नीचे बने हुए एक घर को नहीं हटा पाये.

फ़्लाइओवर के नीचे

हंगरी का अजीबो गरीब घर जो एक फ़्लाइओवर के नीचा बना हुआ है. फ्लाइओवर बनते समय मकान मालिक ने घर हटाने के बात से साफ इंकार कर दिया. तब हंगरी की सरकरर ने उस घर के ऊपर से ही फ़्लाइओवर बना दिया. सरकार ने उन्हे बहुत समझाने की कोशिश की लेकिन वो नहीं माना. आपको ये जानकार हैरानी होगी की वहाँ मकान मालिक अपने पूरे परिवार के साथ रहते है.

रोड के बीच झोपडी

घर बड़ा हो ये छोटा भावनाएं तो एक जैसी ही होती है और इसका उदाहरण है ये रोड़ के बीच बनी झोपड़ी. चीन की सरकार भी इस झोपड़ी को नहीं हटा पाई. झोपड़ी के पास ही बड़ा पैलेस है जहां बहुत बड़े बड़े लोग काम करने आते हैं. इस झोपड़ी को हटाने का मामला कोर्ट तक पहुंचा लेकिन सरकार को हार का सामना करना पड़ा. नए घर देने की बात कही, पैसे देने की बात की, लेकिन वो झोपड़ी वाला माना ही नहीं. आज भी यह घर ऐसे ही बीच सड़क पर है.

ताजातरीन ख़बरें

केशुभाई पटेल, गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री, 92 में निधन

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि गुजरात में भाजपा को खड़ा करने में केशुभाई… और ज्यादा पढ़ें

13 mins पहले

बड़ी खबर! उपलब्ध कृषि मशीनरी पर 80% सब्सिडी; यहां आवेदन करने के लिए डायरेक्ट लिंक

ट्रैक्टर कृषि यंत्रों पर 80% अनुदान: आधुनिक कृषि यंत्रों का उपयोग करना कृषि के लिए… और ज्यादा पढ़ें

13 mins पहले

अक्षय कुमार की फिल्म ‘लक्ष्मी बॉम्ब’ पर भड़कें शक्तिमान, जानें क्या है वजह

Oct. 29, 2020, 2:39 p.m. मुंबई. बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता और टीवी सीरियल शक्तिमान के जरिए… और ज्यादा पढ़ें

29 mins पहले

“यदि आप बिडेन के लिए वोट करते हैं, तो इसका मतलब नो क्रिसमस, चौथा जुलाई होगा”: ट्रम्प

डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि जो बिडेन अधिक लॉकडाउन के माध्यम से देश को नष्ट… और ज्यादा पढ़ें

44 mins पहले

Karwa Chauth 2020: कहीं आपका भी अधूरा न रह जाए करवा चौथ का व्रत, भूलकर न करें ये काम

Oct. 29, 2020, 1:46 p.m. Karwa Chauth 2020: करवा चौथ उत्तर भारतीय स्त्रियों के लिए एक… और ज्यादा पढ़ें

1 hour पहले

रजनीकांत ने राजनीतिक योजनाओं पर पुनर्विचार के संकेत दिए, “लीक पत्र” को खारिज कर दिया

एक पत्र के सामने आने के बाद रजनीकांत की राजनीति में औपचारिक प्रविष्टि पर अटकलें… और ज्यादा पढ़ें

1 hour पहले