Close

पत्नी बीजेपी छोड़ टीएमसी में हुई शामिल, नाराज सांसद ने तलाक की तैयारी की

sujata

पश्चिम बंगाल में चुनावी दंगल शुरु हो गया है. यहां अब एक दूसरी पार्टी के नेताओं की अदला-बदली शुरु हो गई है. 

टीएमसी के कई नेता बीजेपी में शामिल हो रहे हैं तो वहीं बीजेपी के भी नेता टीएमसी में शामिल हो रहे हैं.

सोमवार को बीजेपी सांसद सौमित्र खान की पत्नी सुजाता टीएमसी में शामिल हुई. लेकिन उनके शामिल होने के बाद उनके लिए पारिवारिक रिश्ते में दरार आ गई. 

दरअसल सुजाता के टीएमसी में शामिल होने पर नाराज उनके पति बीजेपी सांसद सौमित्र खान ने तलाक देने की तैयारी कर ली है.

टीएमसी में शामिल होने के बाद सुजाता मंडल ने कहा कि ‘मैं एक तप्शील जनजाति से आने वाली दलित महिला हूं. मैंने बीजेपी और अपने पति के लिए लड़ाई लड़ी थी. हमें टिकट मिला और लोक सभा में जीत हासिल की. मुझे लगता है कि बीजेपी में अब केवल अवसरवादियों को जगह मिल रही है.’

सुजाता मंडल ने कहा कि ‘हम पार्टी के लिए उस वक्त खड़े थे, जब हमें पता भी नहीं था कि वे 2 से 18 सीटें जीत जाएंगे. न कोई सुरक्षा थी और न ही कोई बैक अप. हम जनता के समर्थन से लड़े और जीते. मुझे अब भी लगता है कि मैं एक लड़ाई लड़ रही हूं, लेकिन मेरे लिए बीजेपी में कोई सम्मान नहीं था.’

शुभेंदु अधिकारी के बीजेपी में शामिल होने पर सुजाता मंडल ने कहा कि ‘मुझे समझ में नहीं आता है कि दागियों को शुद्ध करने के लिए किस तरह के साबुन का इस्तेमाल किया जाता है. हमने पार्टी के लिए लड़ाई लड़ी, यह सोचकर कि यह मेरी जिंदगी का आखिरी दिन हो सकता है. अब हम ममता बनर्जी के नेतृत्व में लड़ेंगे.’

बीजेपी पर तंज कसते हुए सुजाता मंडल ने कहा कि पश्चिम बंगाल में अभी ही बीजेपी में मुख्यमंत्री पद के 6 दावेदार और डिप्टी सीएम पद के 13 दावेदार हैं. नरेंद्र मोदी पीएम हैं और वह पीएम ही रहेंगे. वह सीएम प्रत्याशी नहीं हैं. जब हम उनसे (बीजेपी) नेतृत्व के बारे में पूछते हैं, तो कोई जवाब नहीं मिलता है.’

वहीं सुजाता मंडल के पति और बीजेपी सांसद सौमित्र खान नाराज दिख रहे हैं. उन्होंने सुजाता को तलाक का नोटिस भेजने की तैयारी की है. 

बीजेपी सांसद सौमित्र खान ने कहा कि ‘सुजाता ने अच्छा फैसला लिया होगा, लेकिन पार्टी महत्वपूर्ण है और मोदी हमारी जीत के लिए जिम्मेदार हैं. युवा मोर्चा को हमारी जरूरत है. बीजेपी कोई परिवारिक पार्टी नहीं है. आप भाजपा सांसद की पत्नी के रूप में सम्मानित थीं. आपने मुझे वोट दिलवाए हैं और मेरी जीत का हिस्सा हैं. टीएमसी परिवारों को तोड़ सकती है, लेकिन मैं अब उसे (सुजाता) अपने नाम और उपनाम से मुक्त करता हूं.’

आपकों बता दें कि बीजेपी ने पश्चिम बंगाल में इस बार जीत का दावा किया है. वहीं जिसके चलते टीएमसी के कई दागी और अन्य नेता बीजेपी में शामिल हो रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a comment
scroll to top