News
भारत

कागजों में ही सिमट कर रह गई है अमृत जल मिशन योजना, हर साल ड्राई जोन में जा रहा है नगर निगम का अतिरिक्त खर्च

जगदलपुर/बस्तर: जगदलपुर में अमृत जल मिशन योजना के समय से पूरा नहीं होने की वजह से हर साल नगर निगम को 50 लाख का अतिरिक्त खर्च ड्राई जोन वार्डों में पानी उपलब्ध कराने के लिए करना पड़ रहा है. इस साल भी शासन की तरफ से जल कष्ट मद से 50 लाख रुपए मिले हैं. जिससे वाटर टैंकर रिफिलिंग, बोर मरम्मत एवं पेयजल से जुड़े अन्य जरूरी काम गर्मियों के दौरान करवाए जाएंगे. ये अलग बात है कि हर बार के तमाम दावों के बावजूद ड्रॉई जोन में लोगों को पानी उपलब्ध नहीं हो पाता है. 

कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन से परेशान बस्तर के शहरी इलाकों के ड्राई जोन निवासियों को इस बार भी पानी के लिए परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. इस बार गर्मी का असर अब तक ज्यादा दिखाई नहीं दिया है. इसलिए ज्यादातर जल स्रोत सूखे नहीं है. जिससे शिकायतें भी निगम के पास कम आ रही हैं. लेकिन पानी की समस्या से लोगों को दो-चार होना ही पड़ रहा है.

असल में अमृत मिशन योजना जिसे सालों पहले पूरा हो जाना था इस योजना के पूरा नहीं होने से अब भी गर्मियों में हर साल 50 लाख का अतिरिक्त खर्च नगर निगम को उन इलाकों में करना पड़ रहा है, जहां पानी नहीं मिलता. 

अमृत जल मिशन योजना से इंद्रावती नदी का पानी पूरे शहर में सप्लाई किया जाना था. जिसके लिए अलग-अलग जगहों में टंकी बनाने के साथ पाइप लाइन बिछाई जानी थी. लेकिन यह काम अब तक अधूरा है जिसकी वजह से इस बार भी 50 लाख रुपए की लागत से निगम ने ड्राई जोन वार्डों में नए बोर पानी टैंकर सप्लाई के लिए यह पैसे खर्च करने का फैसला किया है.



न्यूज़24 हिन्दी

You might also like