बीजेपी के पैम्फलेट में ऐसा क्या है जो पत्रकारों (एंकरों) को अमित शाह ने पर्सनली दिए

बीजेपी के नेता पत्रकारों ( एंकरों) के घर भी जा रहे हैं. पैम्फलेट देते हैं और फ़ोटो खींचाते हैं. पत्रकारों के अलावा कुछ मशहूर हस्तियों के घर जा रहे हैं जैसे पूर्व सेनाध्यक्ष, डॉक्टर, प्रोफ़ेसर. वैसे इन एंकरों को प्रेस कांफ्रेंस में पैम्फलेट मिला ही होगा. नहीं मालूम कि इन्होंने या किसी गणमान्य ने अपने सवाल पूछे या नहीं. पूछने की हिम्मत भी हुई या नहीं.

प्रचार के लिए मेहनत करने और अपनी बात को लोगों तक ले जाने में भाजपा का जवाब नहीं. हार जीत के अलावा विपक्ष इस मामले में भाजपा की रणनीति को मैच नहीं कर सकता. इन तस्वीरों से एक मेसेज तो जाता ही है कि शहर या समाज के कथित रूप से ये बड़े लोग भाजपा के कार्य से प्रभावित हैं या भाजपा इनसे संपर्क में हैं.

अमित शाह तथाकथित संविधान विशेषज्ञ सुभाष कश्यप के घर गए थे. कश्यप जी को बताना चाहिए कि उत्तराखंड और अरुणाचल में राष्ट्रपति शासन को लागू करने के फ़ैसले को सुप्रीम कोर्ट ने पलट दिया. क्या आपने इस फ़ैसले का समर्थन किया था? या मोदी सरकार के क़दम का समर्थन किया था? इस दौरान आपने संवैधानिक प्रश्नों पर कितनी आलोचना की? क्या आपने तब मोदी सरकार से सवाल किए थे या संविधान की समझ पर राजनीतिक चालाकी का पर्दा डाल कर समर्थन कर रहे थे? 

पत्रकारों ने सुभाष कश्यप से नहीं पूछा होगा. बहरहाल जो नहीं हुआ सो नहीं हुआ. इन लोगों से पूछने का एक नया दौर शुरू हो सकता है अगर जनता भी इनके घर अपने सवालों का पैम्फलेट लेकर जाने लगे.

ये भी पढ़ें:  रिपेयर: सीएम मनोहर लाल खट्टर ने फैलाया झूठ, राहुल गांधी को लेकर रैली में किया दावा फर्जी

जिन युवाओं को नौकरी नहीं मिल रही है, आयोग परीक्षा लेकर रिज़ल्ट नहीं निकाल रहे हैं, पास करके नियुक्ति पत्र नहीं दिया जा रहा है, नौकरी में लेकर निकाल दिया जा रहा है, कालेज में प्रोफ़ेसर नहीं हैं, क्लास ठप्प हैं, परीक्षाएँ या तो होती नहीं या फिर मज़ाक़ हो चुकी हैं, किसान से लेकर ठेके पर काम करने वाले लोग सब इन एक लाख लोगों के घर जाएँ जिनकी सूची भाजपा के पास है. सबको बारी बारी से इनके घर जाना चाहिए यह बताने के लिए कि आपको जो पैम्फलेट दिया गया है, ज़रा देखिए उसमें हमारी समस्या है या नहीं, हमारे लिए कोई बात है या नहीं.

युवा पूछें कि जो पैम्फलेट अमित शाह देकर गए हैं उसमें म प्र के व्यापम घोटाले का ज़िक्र है जिसकी जाँच या गवाही से जुड़े क़रीब पचास लोगों की संयोगवश दुर्घटना में या असामयिक मौत हो चुकी है? यह कैसा संयोग है कि एक केस से जुड़े पचास लोगों की मौत हो जाती है? मीडिया में छप भी रहा है मगर सन्नाटा पसरा है. बिहार के कई हज़ार करोड़ के सृजन घोटाले के मुख्य आरोपियों की गिरफ़्तारी का वारंट आज तक नहीं आया,उसका ज़िक्र है कि नहीं. नोटबंदी के दौरान तमिलनाडू में पचास हज़ार मंझोले उद्योग बंद हो गए उसका ज़िक्र है या नहीं. बैंक कैशियरों ने अपनी जेब से नोटबंदी के दौरान जुर्माना दिया, उसका ज़िक्र है या नहीं.

ये भी पढ़ें:  धारा 370 हटाए जाने के बाद जम्मू में कई इलाकों में 2जी इंटरनेट सेवा बहाल की गई, कश्मीर में अभी भी फोन सेवाए बंद

आपको पता होगा कि नोटबंदी के दौरान कैशियरों पर अचानक कई करोड़ नोट गिनने का दबाव डाला गया, उनसे चूक होनी ही थी. जिसकी भरपाई कैशियरों ने कई करोड़ रुपये अपनी जेब से देकर की. कैशियरों ने जाली नोट के बदले अपनी जेब से जुर्माना भरा. नोटबंदी के झूठ का नशा इतना हावी था कि कैशियरों ने भी सरकार से अपना पैसा नहीं माँगा. बैंक सिस्टम के भीतर सबसे कम कमाने वाला लूट लिया गया मगर उसने और उनके साथियों ने उफ़्फ़ तक नहीं की.

बैंक सेक्टर भीतर से ढह गया और रेल व्यवस्था चरमरा चुकी है, उसका ज़िक्र पैम्फलेट में है या नहीं. छह एम्स में सत्तर फ़ीसदी पढ़ाने वाले डाक्टर नहीं हैं, अस्सी फ़ीसदी सपोर्ट स्टाफ़ नहीं है. हमारे देश में डाक्टर कैसे बन रहे हैं और मरीज़ों का उपचार कैसे हो रहा है इसका ज़िक्र है या नहीं.

ये भी पढ़ें:  जननायक जनता पार्टी के रूप में नए राजनीतिक दल का औपचारिक उदय, रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट मिला, इस दिन मिलेगा चुनाव निशान

हर राज्य में पुलिस बल ज़रूरी संख्या से कई हज़ार कम हैं, वहाँ भर्ती हो रही है या नहीं. न्याय व्यवस्था का भी बुरा हाल है. अगर ये सब नहीं है तो उस पैम्फलेट में क्या है जो बीजेपी के नेता पत्रकारों और सेनाध्यक्षों के घर लेकर जा रहे हैं. कई महीने से दलितों के घर खाना खा रहे थे, वहाँ तो ये वाला पैम्फलेट लेकर नहीं गए! किसानों को भी ये पैम्फलेट दे आना चाहिए.

यह दृश्य ही अपने आप में शर्मनाक है कि एंकर अपने घर में किसी सत्तारूढ़ दल का पैम्फलेट चुपचाप और दांत चियारते हुए स्वीकार कर रहा है. पर दौर बदल गया है. अब जो बेशर्म है उसी की ज़्यादा ज़रूरत है पत्रकारिता में. क्या आपने देखा है कि पैम्फलेट स्वीकार करने वाले एंकरों ने उस पर सवाल करते हुए कुछ लिखा या बोला हो. अगर आप इसीतरह मीडिया को ध्वस्त होने देंगे तो फिर आपके लिए क्या बचेगा? आपकी आवाज़ को कौन पूछेगा.

 

पत्रकार रवीश कुमार के फेसबुक वॉल से कॉपी पेस्ट.

अभी-अभी

दिल्ली के रोहणी इलाके में लड़की का अपहरण कर गोली मारकर हत्या, जाँच में जुटी पुलिस

देश की राजधानी दिल्ली के रोहणी इलाके से एक लड़की का अपहरण करके गोली मारकर हत्या

दिल्ली की अनाज मंडी इलाक़े में लगी भीषण आग, 31 लोगों की मौत, 50 से ज़्यादा लोगों को बचाया गया

दिल्ली के रानी झांसी रोड पर रविवार सुबह अनाज मंडी में भीषण आग लग गई.

जेजेपी नेता अजय चौटाला का बड़ा बयान, कहा-नैना नहीं बनेगी मंत्री, इन विधायकों को बनाएंगे मंत्री

जेजेपी नेता अजय चौटाला ने कहा कि हरियाणा सरकार में उनकी पत्नी नैना चौटाला मंत्री

मारे गए आईएसआई सरगना अबू बकर अल बगदादी की बहन को तुर्की फौजों ने सीरिया में गिरफ्तार किया

आतंकी संगठन आईएसआईएस के प्रमुख अबू बक्र अल-बगदादी की बहन को तुर्की ने सोमवार को

दिल्ली में प्रदुषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकारों को लताड़ा, कहा-ऐसे वातावरण में कोई कैसे जीएगा

भारत में प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने चिंता ज़ाहिर करते हुए मोदी सरकार और

हरियाणा में नए साल पहले लाखों सरकारी कर्मचारियों को सरकार का तोहफ़ा, इस भत्ते में की गई बढ़ोतरी

हरियाणा के लाखों सरकारी कर्मचारियों को नए साल से पहले बीजेजेपी सरकार ने तोहफा दिया

हरियाणा: करनाल में 5 साल की मासूम बच्ची 50 फ़ीट गहरे बोरवेल में गिरी, बचाव अभियान जारी

हरियाणा के करनाल में एक पांच साल की बच्ची खेलते हुए 50 फीट गहरे बोरवेल

हरियाणा में क़रीब 45000 विद्यार्थियों को मिलेगी वाहन सुविधा, जानिए क्या है यह योजना

हरियाणा में शिक्षा विभाग ने उन बच्चों को लेकर एक अहम कदम उठाया है जो

हरियाणा के इन ज़िलों में 4 और 5 नवंबर को स्कूल रहेंगे बंद, प्रदूषण का सबसे ज़्यादा असर पड़ रहा है बच्चों पर

दिल्ली एनसीआर में प्रदूषण के कारण एयर क्वॉलिटी बहुत खराब श्रेणी की पहुंच गई है.

जासूसी कांड पर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर लगाया आरोप, प्रियंका गांधी को भी मिला व्हाट्सएप मैसेज

व्हाट्सएप जासूसी कांड को लेकर कांग्रेस ने केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा है.

फेसबुक पर हमें पसंद करें..