पहले भी कई बार इस तरह गिर चुकी है सरकारें

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने बीजेपी से कहा है कि वे शनिवार चार बजे तक बहुमत साबित करें. कर्नाटक में राज्यपाल ने सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी को सरकार बनाने का न्यौता दिया था जिसके बाद यदियुरप्पा ने गुरुवार को सीएम पद की शपथ ली.

कर्नाटक में किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला है. बीजेपी को 104 सीटें मिली, कांग्रेस को 78, जेडीएस को 38 और अन्य को दो सीटें मिली थी. कांग्रेस और जेएडीएस मिलकर सरकार बनाने का दावा कर रही है. 

येदियुरप्पा ने कहा है कि उन्हें पूरा भरोसा है कि वे सदन में बहुमत साबित कर लेंगे. वहीं कांग्रेस नेता और पार्टी की तरफ से वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, “सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐतिहासिक आंतरिक आदेश दिया है. आदेश के अंतर्गत कई महत्वपूर्ण आदेश दिए गए हैं. फ्लोर टेस्ट कल ही होगा. इसके लिए जल्द ही प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किया जाएगा.” उन्होंने बताया कि येदियुरप्पा के वकील से कोर्ट ने कहा कि कल तक वो कोई नीतिगत फ़ैसला नहीं लेंगे.

भारतीय राजनीति में यह दिलचस्प मौका पहली बार नहीं आया है. राजनीति का इतिहास इससे भरा पड़ा हैं.

चरण सिंह

1979: शपथ के 15 दिनों में ही गिर गई चरण सिंह की सरकार

देश में आपातकाल लागू करने के लगभग दो साल बाद विरोध की लहर तेज़ होती देख प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने लोकसभा भंग कर चुनाव कराने की सिफारिश कर दी.

चुनाव में आपातकाल लागू करने का फ़ैसला कांग्रेस के लिए घातक साबित हुआ. 30 वर्षों के बाद केंद्र में किसी ग़ैर कांग्रेसी सरकार का गठन हुआ.

जनता पार्टी भारी बहुमत से सत्ता में आई और मोरारजी देसाई प्रधानमंत्री बने. चरण सिंह उस सरकार मे गृहमंत्री और उप-प्रधानमंत्री बनें.

पार्टी में अंदरूनी कलह के चलते मोरारजी देसाई की सरकार गिर गई, जिसक बाद कांग्रेस और सीपीआई की मदद से चरण सिंह ने 28 जुलाई 1979 को प्रधानमंत्री पद की शपथ ली.

राष्ट्रपति नीलम संजीव रेड्डी ने उन्हें बहुमत साबित करने के लिए 20 अगस्त तक का वक्त दिया. लेकिन एक दिन पहले यानी 19 अगस्त को ही इंदिरा गांधी ने अपना समर्थन वापस ले लिया और फ्लोर टेस्ट का सामना किए बिना उन्होंने अपना इस्तीफा दे दिया.

वीपी सिंह

1989: बिहार में रथ यात्रा रुकी, उधर दिल्ली की सरकार गिरी

दूसरी कहानी है 1989 की. एक साल पहले यानी 1988 में जय प्रकाश नारायण के जन्मदिन 11 अक्तूबर को जनमोर्चा, जनता पार्टी, लोकदल और कांग्रेस (एस) का विलय हुआ और नई पार्टी जनता दल का गठन हुआ.

वीपी सिंह को जनता दल का अध्यक्ष चुना गया. इनकी अगुवाई में कई क्षेत्रीय दल एक झंडे के नीचे आए और नेशनल फ्रंट का गठन हुआ.

1989 में चुनाव हुए. नेशनल फ्रंट को अच्छी सफलता मिली पर इतनी नहीं कि वो सरकार बना सके.

नेशनल फ्रंट ने भाजपा और वाम पार्टियों का बाहर से समर्थन पाकर सरकार बना ली. वीपी सिंह प्रधानमंत्री बने.

एक साल हुए ही थे कि भाजपा ने रथ यात्रा की शुरुआत की. रथ कई राज्यों से होते हुए बिहार पहुंचा. बिहार में जनता दल की सरकार थी और लालू प्रसाद यादव मुख्यमंत्री थे.

उन्होंने लालकृष्ण आडवाणी के रथ की गति पर लगाम लगा दी और उन्हें गिरफ्तार कर लिया. फिर क्या था, भाजपा ने केंद्र सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया और सरकार गिर गई.

चंद्रशेखर

1990: राजीव गांधी की जासूसी पर गिर गई सरकार

भारतीय राजनीति के इतिहास का अगला पन्ना पलटते हैं और साल 1990 की बात करते हैं. वीपी सिंह के इस्तीफ़े के बाद जनता दल के नेता चंद्रशेखर ने अपने समर्थकों के साथ पार्टी छोड़ दी और समाजवादी जनता पार्टी का गठन किया.

चुनाव हुए और उनकी पार्टी ने 64 सीटों पर जीत हासिल की. संसद के फ्लोर टेस्ट में कांग्रेस ने उन्हें मदद की और चंद्रशेखर प्रधानमंत्री बन गए.

तकरीबन सात महीने बाद कुछ ऐसा हुआ कि उन्हें पद से इस्तीफा देना पड़ा. 02 मार्च 1991 को हरियाणा पुलिस के सिपाही प्रेम सिंह और राज सिंह राजीव गांधी के निपास 10 जनपथ के बाहर जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किए गए.

दोनों सादे कपड़ों में थे और गिरफ्तारी के बाद उन्होंने स्वीकार किया कि वो कुछ सूचना जुटाने वहां भेजे गए थे.

मामले को लेकर राजनीतिक भूचाल आ गया और कांग्रेस ने केंद्र सरकार से अपना समर्थन वापस लेने की घोषणा कर दी. इसके बाद संसद में फ्लोर टेस्ट की नौबत आई. फ्लोर टेस्ट होना ही था कि इससे पहले चंद्रशेखर ने सबको चौंकाते हुए 6 मार्च 1991 को अपने पद से इस्तीफा दे दिया.

मायावती

 

ये भी पढ़ें:  व्हाइट हाउस के पास एक संदिग्ध को खुफिया सेवा के एंजेट ने मार गिराया 

1992: जब मायावती ने कुर्सी की चाहत में खुद का फ्लोर टेस्ट करवा लिया

यह फ्लोर टेस्ट की दिलचस्प कहानी है उत्तर प्रदेश की. साल 1992 में मुलायम सिंह यादव ने समाजवादी जनता पार्टी से अलग होकर समाजवादी पार्टी का गठन किया.

एक साल बाद उत्तर प्रदेश में विवादित ढांचा ध्वस्त कर दिया गया. राज्य की सत्तारूढ़ कल्याण सिंह की सरकार को इस घटना के बाद बर्ख़ास्त कर दिया गया था.

इसके बाद चुनाव होने थे. समाजवादी पार्टी और मायावती की बहुजन समाजवादी पार्टी का गठबंधन हुआ. जिसमें छह-छह महीने मुख्यमंत्री बनाने का फॉर्मूला तैयार किया गया.

गठबंधन ने सरकार बनाई. पहली बार मायावती मुख्यमंत्री बनीं. लेकिन जब मुलायम सिंह यादव का नंबर आया, मायावती ने पद छोड़ने से इंकार कर दिया और सरकार से समर्थन वापस ले लिया.

उत्तर प्रदेश विधानसभा में फ्लोर टेस्ट हुआ और भाजपा के समर्थन से मायावती दोबारा मुख्यमंत्री बनीं और समाजवादी पार्टी खुद को ठगा महसूस कर सत्ता से बाहर हो गया.

अटल बिहारी

1999: जब एक वोट से वाजपेयी की सरकार गिर गई थी

साल 1998 में लोकसभा चुनाव हुए थे. चुनावों में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला था लेकिन अन्नाद्रमुक की मदद से राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ने केंद्र में सरकार बनाई.

13 महीने बाद अन्नाद्रमुक ने अपना समर्थन वापस ले लिया और सरकार अल्पमत में आ गई. विपक्ष की मांग पर राष्ट्रपति ने सरकार को अपना बहुमत साबित करने को कहा.

संसद में फ्लोर टेस्ट हुआ और अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार एक वोट से गिर गई. किसी को ऐसा होने की उम्मीद नहीं थी.

जिस एक वोट से सरकार गिरी वह वोट था ओडिशा के मुख्यमंत्री गिरधर गमांग का. गमांग उस समय ओडिशा के मुख्यमंत्री थे और सांसद भी. वो इस फ्लोर टेस्ट में अपना वोट डालने विशेष रूप से दिल्ली आए थे.

 

ये भी पढ़ें:  ब्लॉग्स: क्या वाकई भारतीय मीडिया को झुकने को कहा गया तो वह रेंगने लगा है?

बीबीसी हिंदी से साभार के साथ

अभी-अभी

दिल्ली के रोहणी इलाके में लड़की का अपहरण कर गोली मारकर हत्या, जाँच में जुटी पुलिस

देश की राजधानी दिल्ली के रोहणी इलाके से एक लड़की का अपहरण करके गोली मारकर हत्या

दिल्ली की अनाज मंडी इलाक़े में लगी भीषण आग, 31 लोगों की मौत, 50 से ज़्यादा लोगों को बचाया गया

दिल्ली के रानी झांसी रोड पर रविवार सुबह अनाज मंडी में भीषण आग लग गई.

जेजेपी नेता अजय चौटाला का बड़ा बयान, कहा-नैना नहीं बनेगी मंत्री, इन विधायकों को बनाएंगे मंत्री

जेजेपी नेता अजय चौटाला ने कहा कि हरियाणा सरकार में उनकी पत्नी नैना चौटाला मंत्री

मारे गए आईएसआई सरगना अबू बकर अल बगदादी की बहन को तुर्की फौजों ने सीरिया में गिरफ्तार किया

आतंकी संगठन आईएसआईएस के प्रमुख अबू बक्र अल-बगदादी की बहन को तुर्की ने सोमवार को

दिल्ली में प्रदुषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकारों को लताड़ा, कहा-ऐसे वातावरण में कोई कैसे जीएगा

भारत में प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने चिंता ज़ाहिर करते हुए मोदी सरकार और

हरियाणा में नए साल पहले लाखों सरकारी कर्मचारियों को सरकार का तोहफ़ा, इस भत्ते में की गई बढ़ोतरी

हरियाणा के लाखों सरकारी कर्मचारियों को नए साल से पहले बीजेजेपी सरकार ने तोहफा दिया

हरियाणा: करनाल में 5 साल की मासूम बच्ची 50 फ़ीट गहरे बोरवेल में गिरी, बचाव अभियान जारी

हरियाणा के करनाल में एक पांच साल की बच्ची खेलते हुए 50 फीट गहरे बोरवेल

हरियाणा में क़रीब 45000 विद्यार्थियों को मिलेगी वाहन सुविधा, जानिए क्या है यह योजना

हरियाणा में शिक्षा विभाग ने उन बच्चों को लेकर एक अहम कदम उठाया है जो

हरियाणा के इन ज़िलों में 4 और 5 नवंबर को स्कूल रहेंगे बंद, प्रदूषण का सबसे ज़्यादा असर पड़ रहा है बच्चों पर

दिल्ली एनसीआर में प्रदूषण के कारण एयर क्वॉलिटी बहुत खराब श्रेणी की पहुंच गई है.

जासूसी कांड पर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर लगाया आरोप, प्रियंका गांधी को भी मिला व्हाट्सएप मैसेज

व्हाट्सएप जासूसी कांड को लेकर कांग्रेस ने केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा है.

फेसबुक पर हमें पसंद करें..