कैटेगरी: नौकरियां

12 बार लगी सरकारी नौकरी, बड़ा अफसर बनकर ही माना किसान का बेटा – जॉब डेस्क


जॉब डेस्क,

बेरोजगारी के इस दौर में किसी को एक सरकारी नौकरी मिल जाती है तो, वो उसी में जिंदगी खपा देता है. मगर इस मामले में श्याम सुंदर बिश्नोई की कहानी सबसे जुदा और युवाओं को प्रेरित करने वाली है. पढ़-लिखकर अफसर बनने का ख्वाब तो हर कोई युवा देखता है, मगर उसके लिए मेहनत औऱ लगन का होना आवश्यक है.

श्याम सुंदर बिश्नोई राजस्थान के बीकानेर जिले के खाजूवाला विधानसभा क्षेत्र के गांव गुलुवाली के रहने वाले हैं. सामान्य घर से ताल्लुक रखने वाले श्याम सुंदर मेहनत और कामयाबी की मिसाल हैं. वर्तमान में चित्तौड़गढ़ के एसडीएम हैं.

श्याम सुंदर बिश्नोई का जन्म 7 फरवरी 1988 को खाजूवाला के गांव गुलुवाली के धूड़ाराम बिश्नोई व सुशीला देवी के घर में हुआ. गांव के सरकारी स्कूल से शुरुआती शिक्षा करने के बाद बीकानेर के महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय से स्नातक व भूगोल, इतिहास में एमए फिर बीएड किया. ये भूगोल विषय से नेट भी कर चुके हैं. आरएएस परीक्षा 2016 में 14वीं रैंक हासिल की. आरएएस में यह इनका चौथा प्रयास था.

श्याम सुंदर के पिता धूड़ाराम किसान हैं. खेती करके बेटे को पढ़ाया-लिखाया और काबिल बनाया. खुद भी पिता के साथ खेती करते थे. इनके दो भाई संदीप कुमार, पवन व एक बहन सुमित्रा है. छोटा संदीप कुमार राजस्थान पुलिस में कांस्टेबल है, जो वर्तमान में बीकानेर में तैनात है. वहीं, दूसरा भाई पवन प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारियों में जुटा है. श्याम सुंदर की शादी मनीषा बिश्नोई से हुई है. मनीषा ने एमए, बीएड व एलएलबी कर रखी है. इनके तीन साल की बेटी मनस्वी है.

श्याम सुंदर बिश्नोई बताते हैं कि वे आईपीएस अधिकारी प्रेमसुख डेलू को अपना प्रेरणास्रोत मानते हैं. उनकी पढ़ाई के प्रति लगन और आगे बढ़ने की ललक ने इन्हें प्रेरित किया. दोनों ने बीकानेर में रूम किराए पर लेकर साथ ही पढ़ाई पूरी की. डेलू वर्तमान में गुजरात के अम्बरेली में बतौर एसपी तैनात हैं. प्रेमसुख डेलू रिश्ते में इनके चचेरे भाई भी लगते हैं. डेलू की दादी श्याम सुंदर के पिता की बुआ हैं.

श्याम सुंदर बिश्नोई अब तक लगे ये नौकरी 1. कांस्टेबल सीआईडी (राजस्थान पुलिस) 2. पटवारी, राजस्व मंडल 3. शिक्षक ग्रेड तृतीय (सामाजिक विज्ञान) 4. शिक्षक ग्रेड द्वितीय (अंग्रेजी) 5. सब इंस्पेक्टर, राजस्थान पुलिस 6. अधिशासी अभियंता, नगर पालिका 7. स्कूल व्याख्याता (भूगोल) 8. जिला परिवहन अधिकारी (डीटीओ) 9. ग्राम सेवक 10.कॉपरेटिव इंस्पेक्टर 11. असिस्टेंट प्रोफेसर (कॉलेज शिक्षा) 12. आरएएस अधिकारी

श्याम सुंदर बिश्नोई का लक्ष्य अफसर बनने का था, मगर इस बीच कई प्रतियोगी परीक्षाएं दी ताकि खुद की तैयारी के स्तर को परखाकर उसमें सुधार कर सकें. वर्ष 2011 में कांस्टेबल से वर्ष 2016 में आरएएस अधिकारी के दौरान 12 बार सरकारी नौकरी लगी. इनमें से सिर्फ कांस्टेबल, शिक्षक ग्रेड द्वितीय, अधिशासी अभियंता नगरपालिका और डीटीओ के रूप में कुछ समय के लिए ज्वाइन किया. अंतिम ज्वाइनिंग आरएएस अधिकारी के रूप में की, जिसमें अभी भी सेवाएं दे रहे हैं



ताजातरीन ख़बरें

एनडीए के सहयोगी ने कृषि कानूनों से बाहर निकलने की धमकी दी, 3 मांगों का हवाला दिया

<!-- -->नई दिल्ली: राजस्थान की सांसद हनुमान बेनीवाल, और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (RLP) के प्रमुख… और ज्यादा पढ़ें

7 mins पहले

दिल्ली में नीति आयोग ने कई पदों पर आवेदन के लिए नोटिफिकेशन किया जारी – जॉब डेस्क

jobs haryana नीति आयोग ने कई पदों पर आवेदन आमंत्रित किए हैं. ये नियुक्तियां ऑफिसर… और ज्यादा पढ़ें

19 mins पहले

इस शख्स ने इतने लाख में खरीदा कार का नंबर कि आरटीओ भी रह गया हैरान

नई दिल्ली: क्या आप कार से ज्यादा की कीमत पर कार का नंबर खरीद सकते हैं?… और ज्यादा पढ़ें

19 mins पहले

पीएम ने किसान कानून पर कहा, “नए कानून पुराने सिस्टम को बंद नहीं करते”

नई दिल्‍ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कृषि कानूनों पर बात करते हुए उसकी सकारात्मकता को… और ज्यादा पढ़ें

1 hour पहले

COVID-19: 30 करोड़ लोगों को अगस्त 2021 तक टीका लगाया जाएगा, स्वास्थ्य मंत्री कहते हैं

<!-- -->केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि स्वच्छता और मास्क कोरोनोवायरस के खिलाफ प्रमुख हथियार… और ज्यादा पढ़ें

1 hour पहले